GANPATI MAHOTSAV: छोटी-छोटी प्रतिमाएं खूब सज-धजकर चली

सोसायटी-अपार्टमेंट में खूब बजे बाजे-गाजे, कोरोना मुक्ति और सुख-समृद्धि की कामना के साथ बप्पा को किया विदा

By: Dinesh Bhardwaj

Published: 19 Sep 2021, 09:32 PM IST

सूरत. दस दिवसीय गणपति महोत्सव में घर-घर आए बप्पा ने मानों सभी को श्रद्धा, भक्ति के साथ-साथ धार्मिक पर्व में अनुशासन का पाठ भी सीखा दिया। तभी रविवार को अनंत चतुर्दशी की वेला पर विसर्जन यात्रा के दौरान छोटी-छोटी प्रतिमाओं को सजा-धजाकर सादगी से कृत्रिम तालाब ले जाया गया। वहीं, सोसायटी में अवश्य जमकर धूमधाम रही। वहां श्रद्धालुओं ने पूजा-अर्चना, आरती के बाद प्रतिमाएं सोसायटी प्रांगण व घरों में ही पानी के टब व गमलों में विसर्जित की।
कोरोना महामारी की वजह से जारी गाइडलाइन में श्रद्धालुओं को इस बार गत वर्ष की अपेक्षा दस दिवसीय गणपति महोत्सव मनाने में काफी रियायत मिली थी, लेकिन इस रियायत में प्रशासनिक अनुशासन कड़ाई से शामिल था और उसी का नतीजा रहा कि भाद्रपद शुक्ल चतुर्थी से अनंत चतुर्दशी तक गणपति महोत्सव अधिकांश स्थलों पर सादगी के साथ मनाया गया। इस बार सार्वजनिक स्तर पर गणपति प्रतिमाएं स्थापित करने की रियायत मिली थी और शहर में बड़ी संख्या में सोसायटी-अपार्टमेंट के अलावा अन्य स्थलों पर गणपति प्रतिमाएं गणेश चतुर्थी को प्रतिष्ठापित की गई और फिर अनंत चतुर्दशी रविवार से पहले तक नियमित सुबह-शाम दर्शन-पूजन, आरती-भोग आदि के आयोजन किए। इस दौरान कई श्रद्धालुओं के घरों में भजन-कीर्तन, सत्यनारायण भगवान की कथा समेत अन्य धार्मिक कार्यक्रमों के भी आयोजन किए गए। गणपति महोत्सव की गणेश चतुर्थी से अनंत चतुर्दशी की दस दिवसीय यात्रा रविवार को पूर्ण हो गई और श्रद्धालुओं ने बप्पा को कोरोना महामारी को पूर्ण रूप से ले जाने व अगले वर्ष सुख-समृद्धि व शांति के साथ वापस आने का न्योता देकर विदा किया।

-ज्यादातर सड़कें रही सूनी-

गणपति महोत्सव में प्रशासनिक सहूलियतें मिलने के बाद भी अनंत चतुर्दशी रविवार को विसर्जन यात्रा के दौरान शहर की अधिकांश सड़कें सूनी दिखाई दी। दो साल पहले तक इन्हीं सड़कों पर अनंत चतुर्दशी के दिन पैर रखने को जगह नहीं मिलती थी। विसर्जन यात्रा के दौरान शहर में ज्यादातर प्रतिमाएं उधना-मगदल्ला रोड, डुमस रोड, वीआईपी रोड और रिंगरोड से श्रद्धालु बाजे-गाजे, डीजे, बग्गी आदि के साथ लेकर जाते थे लेकिन, इस बार इन्हीं सब मुख्य मार्गों पर रविवार को चंद प्रतिमाओं के साथ सादगी से जाते श्रद्धालु ही दिखाई दिए। वहीं, सेवा पंडाल भी कहीं नजर नहीं आए।

-सोसायटी में जमा माहौल-

शहर की 65 फीसदी से ज्यादा सोसायटी-अपार्टमेंट में स्थापित गणपति प्रतिमाओं का विसर्जन सोसायटी प्रांगण में ही बाजे-गाजे के साथ रविवार को किया गया। इससे पूर्व पंडाल में भगवान की विधिवत पूजा, आरती व अन्य कार्यक्रम हुए और उसमें बड़ी संख्या में श्रद्धालु शामिल रहे। विसर्जन से पूर्व प्रांगण में रंगोलियां सजाई गई और वहां रखे पानी के टब का भी फूलमाला से शृंगार किया गया। बाद में भगवान की छोटी-छोटी प्रतिमाओं को शृंगारित कर श्रद्धालुओं ने नाचते-गाते विसर्जन यात्रा निकाली और फिर निर्धारित स्थल पर बने अस्थाई कुंड में प्रतिमाओं का विसर्जन किया।

GANPATI MAHOTSAV: छोटी-छोटी प्रतिमाएं खूब सज-धजकर चली
Dinesh Bhardwaj Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned