RAPE : मैत्री का करार का दुर्रपयोग कर युवती से बलात्कार और मारपीट


- पुणागाम थाने में युवक के खिलाफ मामला दर्ज
Case registered against youth at Punagam police station of surat

By: Dinesh M Trivedi

Published: 05 Feb 2021, 10:20 AM IST

सूरत. बिना शादी के महिला व पुरुष को साथ रहने की कानूनी मान्यता देने वाले मैत्री करार कानून के दुरुपयोग का मामला सामने आया है। विवाह की उम्र नहीं होने के बावजूद एक युवक ने मैत्री करार कर एक युवती को अपने जाल में फंसाया और फिर मारपीट कर उसके साथ बलात्कार किया। आरोप है कि युवक ने उसके आपत्तिजनक वीडियो वायरल करने की धमकी दी है।


मामले की जांच कर रही महिला पुलिस उप निरीक्षक डी.डी. रोहित ने बताया कि पुणागाम कल्याण सोसायटी निवासी दीक्षित मकवाणा ने 19 वर्षीय युवती के साथ मारपीट कर बलात्कार किया। दरअसल पीडि़ता के साथ पूर्व में उसकी सगाई हुई थी। शादी के समय को लेकर विवाद होने पर सगाई टूट गई। दीक्षित की उम्र कम होने के कारण कानूनन उसकी शादी संभव नहीं थी।

इसलिए उन्होंने 2 नवम्बर 2020 को मैत्री करार कर लिया। पीडि़ता पत्नी की तरह दीक्षित के घर रहने के लिए आ गई। करार के 15 दिन बाद ही दीक्षित ने मारपीट कर उसे प्रताडि़त करना शुरू कर दिया। उसके साथ जबरन शारीरिक संबंध भी बनाए। विरोध करने अपने मोबाइल से बनाए पीडि़ता के अश्लील वीडियो वायरल करने की धमकी दी। आखिरकार पीडि़ता ने पुणागाम थाने में प्राथमिकी दर्ज करवाई।


बिना शादी के मैत्री करार कर साथ रह सकते है महिला और पुरुष मैत्री करार गुजरात की सामाजिक प्रथा है, जिसे स्थानीय स्तर पर क़ानूनी मान्यता भी मिली हुई है। यह 'लिखित कऱार' होता है। यह महिला व पुरुष के बीच एक तरह का समझौता है, जिसे मजिस्ट्रेट की मौजूदगी में लिखित तौर पर तय किया जाता है। यह एक तरह का 'लिव-इन रिलेशनशिप' है, लेकिन लिव इन रिलेशनशिप से थोड़ा भिन्न होने के कारण इसे 'मैत्री कऱार' कहा जाता है।


पति के मित्र ने किया बलात्कार


सूरत. मोटा वराछा में एक विवाहिता से उसके पति के मित्र ने बलात्कार किया। पुलिस के मुताबिक मोटा वराछा हरिदर्शन रेसीडेंसी निवासी दलसुख सोजित्रा गत नवम्बर माह में अपने मित्र के घर गया था। उस समय उसकी पत्नी घर पर अकेली थी, जिसका फायदा उठा कर उसने जबरदस्ती की। आरोप है कि इस बारे में किसी से जिक्र करने पर उसके पति को जेल में बंद करवाने की धमकी भी दी। समाज में उसे भी बदनाम करने की धमकी दी। धमकी के डर से पीडि़़ता ने उस समय इस बारे में किसी से कोई बात नहीं की। आखिकार उसने अमरोली थाने में प्राथमिकी दर्ज करवाई।

Dinesh M Trivedi Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned