सरकार का फैसला, हिंदी विभाग शुरू होगा

राजस्थान पत्रिका ने उठाया था मुद्दा :

वीएनएसजीयू में हिंदी विभाग के लिए छह करोड़ की ग्रांट मंजूर

सूरत.

वीर नर्मद दक्षिण गुजरात विश्वविद्यालय (वीएनएसजीयू) में हिंदी विभाग शुरू करने की मांग आखिर पूरी होती दिख रही है। गुरुवार को राज्य सरकार ने हिंदी और संस्कृत विभाग के भवन के लिए छह करोड़ रुपए की ग्रांट को हरी झंडी दे दी।

विश्वविद्यालय की ओर से मिली जानकारी के अनुसार वीएनएसजीयू परिसर में हिंदी और संस्कृत विषय का अनुस्नातक पाठ्यक्रम नहीं होने से हिंदी और संस्कृत के विद्यार्थियों को दिक्कतों का सामना करना पड़ता था। विश्वविद्यालय प्रशासन की ओर से कई साल से हिंदी और संस्कृत विभाग शुरू करने के लिए कवायद चल रही थी, लेकिन ग्रांट नहीं मिलने के कारण मामला आगे बढ़ नहीं रहा था।

आखिर गुरुवार को राज्य सरकार ने अहम निर्णय किया तथा वीर नर्मद दक्षिण गुजरात विश्वविद्यालय में हिंदी और संस्कृत विभाग शुरू करने के लिए छह करोड़ रुपए की ग्रांट मंजूर की। इस ग्रांट से हिंदी और संस्कृत विभाग के लिए आधुनिक भवन तथा शिक्षा साहित्य की खरीद की जाएगी। इससे दक्षिण गुजरात के लाखों विद्यार्थियों को फायदा होगा।

राजस्थान पत्रिका ने उठाया था मुद्दा
वीर नर्मद दक्षिण गुजरात विश्वविद्यालय दक्षिण गुजरात के विद्यार्थियों के लिए शिक्षा का बड़ा केंद्र होने के बावजूद यहां राजभाषा हिंदी का उपहास हो रहा था। हिंदी के सम्मान के लिए राजस्थान पत्रिका आगे आई और अभियान के जरिए वीएनएसजीयू में हिंदी विभाग की जरूरतों पर अभियान चलाया गया। अभियान को दक्षिण गुजरात के कई बुद्घिजीवियों और शिक्षाविदों का समर्थन मिला। जनप्रतिनिधियों ने भी हिंदी विभाग शुरू करने पर जोर दिया। इस अभियान को लेकर विश्वविद्यालय ने हिंदी विभाग शुरू करने की मंजूरी के लिए प्रस्ताव तैयार कर राज्य सरकार को भेजा था। राज्य सरकार की ओर से प्रस्ताव को मंजूरी दे दी गई थी, लेकिन ग्रांट के अभाव में कवायद आगे नहीं बढ़ रही थी।

Show More
Divyesh Kumar Sondarva
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned