covid 19 : कोरोना की काली सूरत : कब्रिस्तानों में भी पहले से ही तैयार की जा रही हैं कब्रें

- अब तीन की जगह आ रहे हैं सात-आठ शव
- जेसीबी की मदद लेकर खोदी जा रही, कर्मचारियों की संख्या बढ़ाई

- Seven-eight bodies are coming in place of three in surat
- Being dug with the help of JCB, the number of employees increased

By: Dinesh M Trivedi

Published: 14 Apr 2021, 09:52 PM IST

सूरत. शहर में कोरोना से मोतों का आकंड़ा लगातार बढऩे से हाहाकार की स्थिति बन रही है। शवों की कतार के चलते श्मशानों की हालत तो खस्ता है ही, कब्रिस्तानों पर भी दबाव बढ़ रहा है। कई कब्रिस्तानों में जेसीबी की मदद से पहले ही कब्रें तैयार की जा रही है।

शहर के रांदेर क्षेत्र के एक कब्रिस्तान के बुधवार को ऐसा ही देखने को मिला। मुस्लिम समुदाय के कब्रिस्तान में जेसीबी की मदद से एक साथ कई कब्रें पहले से ही तैयार की जा रही थी। कब्रिस्तान की देखरेख करने वाले आसिफ शेख ने बताया कि इस कब्रिस्तान में निकटवर्ती रांदेर, मोरा भागल, जहांगीराबाद व अडाजण पाटिया के शव दफन विधी के लिए लाए जाते हैं।

covid 19 : कोरोना की काली सूरत : कब्रिस्तानों में भी तैयार की जा रही हैं कब्रें

आम दिनों में औसतन दो से तीन शव यहां लाए जाते हैं, लेकिन कोरोना बढऩे के बाद यहां प्रतिदिन सात से आठ शव लिए लाए जा रहे हैं। इसलिए हमें पहले से ही तैयारियां करनी पड़ रही है। कब्रिस्तान में कर्मचारियों की संख्या भी बढ़ा दी गई है। पहले हाथों से ही कब्र खोद कर तैयार की जाती थी। एक कब्र को तैयार करने में सात घंटे लगते थे। दिन में दो तीन शव हो तो कर्मचारी ही कब्र खोद कर तैयार कर देते थे।

लेकिन शवों की संख्या बढऩे से ऐसा संभव नहीं है। इसलिए जेसीबी की मदद लेकर पहले से दो तीन घंटे में ही आठ-दस कब्रें पहले से ही तैयार रखी जा रही है। ताकी लोगों को शव दफनाने के लिए परेशान नहीं होना पड़े। कमोबेश यही हालात शहर के परकोटा क्षेत्र, लिम्बायत, उनगांव व सचिन क्षेत्रों के कब्रिस्तानों में भी हैं। वहां भी आम दिनों से दो गुने शव लाए जा रहे हैं।

Show More
Dinesh M Trivedi Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned