GSEB : डीइओ ने प्रभाततारा स्कूल के विद्यार्थियों से झाड़ा पल्ला!

10वीं और 12वीं के विद्यार्थियों के भविष्य पर छाए संकट के बादल

अदालत के फैसले पर अब विद्यार्थियों की आस

By: Divyesh Kumar Sondarva

Published: 29 Mar 2019, 07:34 PM IST

सूरत.

प्रभाततारा स्कूल के विद्यार्थियों से जिला शिक्षा अधिकारी ने पल्ला झाड़ लिया। 10वीं और 12वीं के विद्यार्थियों पर संकट के बादल छा गए हैं। न गुजरात बोर्ड से और न ही जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय से विद्यार्थियों को उचित जवाब मिल रहा है। अब विद्यार्थियों की नजर अदालत के फैसले पर टिकी हुई है। प्रभाततारा स्कूल के 10वीं और 12वीं के विद्यार्थी पिछले दिनों अभिभावकों के साथ जिला शिक्षा अधिकारी से गुजरात बोर्ड परीक्षा और एनआइओएस की परीक्षा को लेकर मिलने पहुंचे थे। लेकिन उनकी उम्मीद पर पानी फिर गया। विद्यार्थियों ने बताया कि वे प्रभाततारा स्कूल प्रबंधन से मिलने आए तो उन्हें मिलने से मना कर दिया गया।
बाद में देर तक उन्हें बिठाए रखा। फिर मात्र एक विद्यार्थी को जिला शिक्षा अधिकारी ने कार्यालय में बुलाया। एक विद्यार्थी जिला शिक्षा अधिकारी से मिला और उन्हें उनकी परीक्षा और भविष्य को लेकर न्याय दिलाने की मांग की। जिला शिक्षा अधिकारी ने कहा कि वह कुछ नहीं कर सकते। उन्होंने विद्याकुंज के संचालक से मिलने को कहकर बात समाप्त कर दी। जिला शिक्षा अधिकारी के इस तरह के बर्ताव से विद्यार्थी मायूस हो गए। इसके बाद विद्यार्थी विद्याकुंज के संचालक से मिले। उन्हें बताया गया कि उनका मामला अदालत में चल रहा है। फैसला आने तक उन्हें इंतजार करना पड़ेगा। विद्यार्थियों का कहना है कि उन्हें पता ही नहीं है कि अदालत में किस तरह का मामला चल रहा है। पहले गुजरात बोर्ड ने परीक्षा से साफ मना किया। अब ओपन स्कूल परीक्षा का भी कोई अता-पता नहीं है। अदालत का क्या फैसला होगा उस पर उनकी आस टिकी हुई है।

Divyesh Kumar Sondarva Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned