GSEB RESULT 2019 : सूरत समेत दक्षिण गुजरात के चार जिलों का परिणाम गिरा

GSEB RESULT 2019 : सूरत समेत दक्षिण गुजरात के चार जिलों का परिणाम गिरा

Divyesh Kumar Sondarva | Publish: May, 21 2019 08:27:36 PM (IST) Surat, Surat, Gujarat, India

- गणित, विज्ञान और टेक्नोलॉजी ने 2.50 लाख से ज्यादा विद्यार्थियों की उम्मीदों पर फेरा पानी
- कामयाब विद्यार्थियों पर स्कूलों में फूलों की बारिश, पटाखे फोड़ कर मनाया जश्न

- नर्मदा, तापी और दमन जिले का परिणाम बढ़ा

सूरत.

गुजरात माध्यमिक एवं उच्चतर माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की एसएससी परीक्षा में सूरत जिले के विद्यार्थियों का प्रदर्शन लगातार चौथी बार राज्य के अन्य जिलों से बेहतर रहा है। जिले का परिणाम 79.63 प्रतिशत रहा, जो पिछले साल के मुकाबले ०.4३ प्रतिशत कम है। इस बार गणित के साथ विज्ञान एवं टेक्नोलॉजी ने कई विद्यार्थियों की उम्मीदों पर पानी फेर दिया। राज्य में सबसे ज्यादा ढाई लाख विद्यार्थी इन्हीं दो विषयों में फेल हुए हैं।
पिछले साल सूरत जिले का परिणाम ८०.०६ प्रतिशत, वर्ष 2017 में ७९.२७, 2016 में 80.91, वर्ष 2015 में 71.64 और 2014 में ६७.३९ प्रतिशत रहा था। इस साल राज्य से सभी 37 जिलों का परिणाम ६६.९७ प्रतिशत रहा है, जो पिछले साल 67.50 प्रतिशत था। राज्य के परिणाम में भी इस साल ०.५३ प्रतिशत की कमी आई है। दक्षिण गुजरात में सूरत, डांग, नवसारी, भरुच और वलसाड़ का परिणाम 0.50 से 3.90 प्रतिशत तक गिरा है, जबकि नर्मदा, तापी और दमन जिले का परिणाम 4 से 6 प्रतिशत तक बढ़ा है। ए1 ग्रेड हासिल करने में सूरत जिले के विद्यार्थी सबसे आगे रहे। सूरत जिले में 1,009 विद्यार्थियों ने ए1 ग्रेड हासिल की है। दक्षिण गुजरात के सात जिलों और दमन को मिलाकर 1,६६,३३७ विद्यार्थियों ने परीक्षा के लिए पंजीकरण करवाया था। इनमें से १,६५,१३४ ने परीक्षा दी और १,१९,९४३ सफल रहे।
गुजरात बोर्ड ने मार्च में एसएससी की परीक्षा ली थी। मंगलवार को वेबसाइट पर इसका परिणाम जारी किया। परिणाम देख कर सूरत जिले के विद्यार्थी खुशी से झूम उठे। सुबह से विद्यार्थी, अभिभावक और स्कूल संचालक वेबसाइट तथा मोबाइल पर परिणाम देखने में व्यस्त रहे। बाद में विद्यार्थी स्कूल पहुंचे। स्कूलों ने उनके स्वागत की तैयारियां कर रखी थीं। डीजे बजाया गया और विद्यार्थियों पर फूलों की बारिश की गई। पटाखे भी फोड़े गए। एक-दूसरे को मिठाई खिलाई गई। एक तरफ हजारों विद्यार्थी खुशी मना रहे थे, वहीं कई विद्यार्थी थोड़े अंतर के कारण परीक्षा पास करने में सफल नहीं हो पाए। गणित और विज्ञान एवं टेक्नोलॉजी विषयों के कारण हजारों विद्यार्थी 10वीं पास नहीं कर पाए। गणित विषय में राज्यभर से ८,२८,०९८ विद्यार्थी पंजीकृत हुए थे। इनमें से ८,२१,९८२ ने परीक्षा दी और 5,72,473 ही गणित विषय पास कर पाए। 2,49,509 विद्यार्थी गणित के कारण 10वीं पास नहीं कर सके। गणित विषय का परिणाम ६९.६५ प्रतिशत रहा है। विज्ञान एवं टेक्नोलोजी विषय के लिए राज्यभर से ८,२८,९४४ पंजीकृत हुए, ८,२२,८२० ने परीक्षा दी और ५,६१,२९९ ही यह विषय पास कर पाए। 2,61,521 विद्यार्थी इस विषय में फेल हो गए। इस विषय का परिणाम ६८.२२ प्रतिशत रहा।


पास होने वाले बढ़े, परिणाम नहीं
पिछले साल के मुकबले इस साल राज्यभर में 10वीं पास करने वाले विद्यार्थी बढ़े हैं। फिर भी पंजीकृत विद्यार्थियों की संख्या अधिक होने के कारण पास होने वालों के प्रतिशत में पिछले साल के मुकाबले 0.53 प्रतिशत की कमी हुई है। इस साल दक्षिण गुजरात में सूरत जिले का परिणाम ०.४३, डांग का ३.७८, नवसारी का ३.२४, भरुच का ३.९० और वलसाड़ का ३.६० प्रतिशत गिरा है, जबकि नर्मदा का 5.77 प्रतिशत, तापी का 4.42 प्रतिशत और दमन का 6.7 प्रतिशत बढ़ा है। भरुच जिले का परिणाम 66.24 प्रतिशत, डांग का 68.72, नर्मदा जिले का 66.56, नवसारी जिले का 67.40 , तापी जिले का 62.79 , वलसाड़ जिले का 62.79 और दमन का 77.41 प्रतिशत रहा।
वराछा में इस साल भी ए1 ग्रेड वाले अधिक
शहर के अन्य क्षेत्रों के मुकाबले इस साल भी वराछा के स्कूलों के विद्यार्थी ए1 ग्रेड के मामले में सबसे आगे हैं। वराछा विस्तार के स्कूलों में पटाखे फोड़ कर विद्यार्थियों का आभार व्यक्त किया गया। विद्यार्थियों के साथ अभिभावकों ने इसका श्रेय स्कूलों को दिया। सूरत जिले से सर्वाधिक ८३,१०३ विद्यार्थियों ने परीक्षा के लिए पंजीकरण करवाया था। इनमें से ८२,७८१ ने परीक्षा दी। १००९ विद्यार्थियों ने ए1, ५७३४ ने ए2, १०५७७ ने बी1, १६८३१ ने बी2, १९६७६ ने सी1, ११३८२ ने सी2, ७०७ ने डी, २७५९ ने इ1 और १४१०६ ने इ2 ग्रेड हासिल की है। सूरत जिले से कुल ६५,९२२ विद्यार्थी पास हुए हैं।


सूरत जिले का एनसीइआरटी का परिणाम 78.45 प्रतिशत
राज्यभर में गुजरात बोर्ड के 132 स्कूलों में एनसीइआरटी प्रोजेक्ट चलाया जा रहा है। इनके विद्यार्थियों के लिए गुजरात बोर्ड ने एनसीइआरटी की किताबों से अलग से प्रश्न पत्र तैयार किया था। सूरत जिले में एनसीइआरटी प्रोजेक्ट के तहत परीक्षा देने वाले विद्यार्थियों का परिणाम ७८.४५ प्रतिशत रहा है। जहां गुजरात बोर्ड के विद्यार्थियों का गणित और विज्ञान एवं टेक्नोलॉजी का परिणाम कम रहा है, वहीं एनसीइआरटी के विद्यार्थियों का गणित और विज्ञान एवं टेक्नोलोजी में परिणाम 93 प्रतिशत से अधिक रहा है। एनसीइआरटी के 93.66 प्रतिशत विद्यार्थी गणित में और ९५.६९ विद्यार्थी विज्ञान एवं टेक्नोलोजी विषय में पास हुए हैं।

दक्षिण गुजरात के जिलों का परिणाम
जिला 2014 2015 2016 २०१७ २०१८ 2019 अंतर
सूरत 67.39 71.64 ८०.९१ ७९.२७ ८०.०६ ७९.६३ -०.४३
डांग 62.86 39.10 ४१.४१ ५६.५५ ७२.५० ६८.७२ -३.७८
नवसारी 55.41 53.95 ५४.१० ६८.६८ ७०.६४ ६७.४० -३.२४
भरुच 67.14 52.38 ५०.९६ ६९.९१ ७०.१४ ६६.२४ -३.९०
वलसाड़ 71.36 61.57 ५२.५४ ६४.७८ ६६.५८ ६२.९८ -३.६०
नर्मदा 51.58 24.06 ३२.५६ ४६.९० ६०.७९ ६६.५६ ५.७७
तापी 60.52 47.62 ५१.४४ ६५.२१ ५८.३७ ६२.७९ ४.४२
दमन 58.21 65.64 ५६.०१ ६१.६४ ७०.७१ ७७.४१ ६.७

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned