लोन एडवाइजर के यहां जीएसटी विभाग का छापा

बड़ी रकम की कर चोरी पकड़ाने का अनुमान

By: Pradeep Mishra

Published: 06 Sep 2018, 08:46 PM IST

सूरत

सेन्ट्रल जीएसटी विभाग ने गुरुवार को लोन दिलाने की सर्विस करने वाली पीपलोद की एक एडवायजरी फर्म पर छापा मारा। देर रात तक चली कार्रवाई में विभाग ने बड़े पैमाने पर दस्तावेज जब्त किए हैं। विभाग को यहां से बड़ी रकम की कर चोरी पकड़ाने का अनुमान है।
सीजीएसटी विभाग के सूत्रों के अनुसार गुरुवार दोपहर को सेन्ट्रल जीएसटी विभाग की प्रिवेंटिव टीम ने लोन प्रोवाइड कराने वाली एडवाइजर पेढ़ी के ऑफिस और उसके घर तथा उससे जुड़े लोगों के यहां सर्च कार्रवाई की। विभागीय कार्रवाई तमाम स्थानों पर देर रात तक जारी रही। बताया जा रहा है कि लोन एडवाइजर बडी-बड़ी कंपनियों को लोन दिलाने की सर्विस प्रोवाइड करता था। इसका काम गुजरात भर में फैला है।

पेमेन्ट का नियम बनाने के लिए व्यापारियों से चर्चा करेंगे
कपड़ा बाजार में लंब समय से पेमेन्ट की समस्या के कारण व्यापारी परेशान हैं। अन्य राज्यों के व्यापारी माल खरीदने के बाद समय पर पेमेन्ट नहीं करते और दबाव डालने पर माल वापस कर देते हैं। ऐसे में इस पर नियम बनाने के लिए व्यापारियों से सलाह के लिए साउथ गुजरात टैक्सटाइल ट्रेडर्स एसोसिएशन ने बैठक बुलाई है।
अग्रसेन भवन के वृंदावन हॉल में शनिवार को 10 बजे से 12.30 बजे तक आयोजित बैठक में पेमेन्ट 30 से 40 दिनों के अंदर लेने और रिटर्न गुड्स पर अंकुश लगाने पर चर्चा की जाएगी। कोई व्यापारी पेमेन्ट किए बिना अन्य व्यापार करने लगे तो इसकी रोकथाम के उपाय और व्यापार के लिए नए नियम बनाने पर भी चर्चा की जाएगी।
उल्लेखनीय है कि हाल में ही साउथ गुजरात यार्न डीलर एसोसिएशन ने वीवर्स से सौदे के पहले एडवांस चेक लेने का नियम बनाया है। इसके बाद अन्य सभी व्यापारिक संस्थाओं में भी ऐसे नियम की आवश्यकता महसूस होने लगी है। कपड़ा व्यापारी भी अन्य राज्यों से समय पर पेमेन्ट नहीं मिलने और रिटर्न गुड्स के कारण परेशान है। वह भी इससे छुटकारा पाना चाहते हैं। इस कारण व्यापार कड़े नियम बने ऐसा चाहते हैं।

Pradeep Mishra Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned