GST NEWS- जीएसटी की इस समस्या का हल किसी के पास नहीं!!!!

गुजरात और महाराष्ट्र के वैट मॉडल को अपनाने की मांग की

सूरत
चैम्बर ऑफ कॉमर्स के प्रतिनिधिमंडल ने बुधवार को वडोदरा जोन के चीफ कमिश्नर से बुधवार को मुलाकात कर रिफंड में विलंब, और जीएसटी का सर्वर धीमा रहने से रिटर्न फाइल करने में हो रही दिक्कत सहित अन्य कई समस्याओं को हल करने की गुहार लगाई।चैम्बर की ओर से गुहार लगाई गई कि हाल में सरकार ने जीएसटीआर-2ए में दिख रही आइ
टीसी और उसकी 20 प्रतिशत रकम जितनीआईटीसी देने का निर्णय किया है। इससे व्यापार को नुकसान होगा। इसलिए इसमें सुधार करना चाहिए। इसके अलावा कहा कि जीएसटी के दो साल होने के बाद भी कई बार सर्वर धीमा होने से रिटर्न फाइल करने में दिक्कत हो जाती है। 1 अप्रेल 2020 से जीएसटी रिटर्न के नए नियम अमल में आने है जो कि बहुत अटपटे हैं इसलिए गुजरात और महाराष्ट्र के वैट मॉडल को अपनाने की मांग की। हीरा उद्योग में इन्वर्टेड ड्यूटी स्ट्रक्चर के कारण जमा आइटीसी रिफं ड जल्दी दिया जाए इस पर भी जोर दिया। चीफ कमिश्नर अशोक महेता ने सब की बातें ध्यान से सुनी और आश्वासन दिया। चैम्बर ऑफ कॉमर्स की ओर से फिआस्वी के चेयरमैन भरत गांधी, मितिष मोदी, किशोरचंद्र घीवाला, आशिष गुजराती, बाबु कथीरिया उपस्थित रहे।

Show More
Pradeep Mishra
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned