GUJARAT NEWS: सूरत कपड़ा उद्योग को मिल सकती है संजीवनी

बजट में सूरत कपड़ा उद्योग के लिए भी कुछ खास प्रावधान रखे हैं, जिन्हें स्थानीय कपड़ा उद्यमी कोरोना काल के बीच संजीवनी समान मान रहे हैं

By: Dinesh Bhardwaj

Updated: 03 Mar 2021, 09:13 PM IST

सूरत. राज्य के उप मुख्यमंत्री व वित्त मंत्री नितिन पटेल ने बुधवार को गांधीनगर स्थित विधानसभा में गुजरात का वर्ष 2021-22 का आम बजट प्रस्तुत किया। बजट में सूरत कपड़ा उद्योग के लिए भी कुछ खास प्रावधान रखे गए हैं, जिन्हें स्थानीय कपड़ा उद्यमी कोरोना काल के बीच संजीवनी समान मान रहे हैं। उनका मानना है कि बजट में प्रस्तावित योजनाएं व्यवस्थित तरीके से आगामी समय में क्रियान्वित की जाती है तो निश्चय ही 1500 करोड़ के टैक्सटाइल पैकेज व मेगा टैक्सटाइल पार्क का लाभ सूरत कपड़ा मंडी के हजारों कपड़ा व्यापारियों को मिल सकेगा।


-रोजगार में बढ़ोत्तरी की संभावना


राज्य सरकार ने बुधवार को विधानसभा में पेश किए बजट में कपड़ा उद्योग के लिए भी कुछ खास प्रावधान किए हैं, जिन्हें कोरोना काल के बीच टैक्सटाइल इंड्रस्टी के लिए संजीवनी समान माना जा सकता है। 1500 करोड़ का टैक्सटाइल पैकेज, दो मेगा टैक्सटाइल पार्क, एमएसएमई में 1500 करोड़ का प्रावधान आदि सभी सूरत कपड़ा मंडी के व्यापारियों के हित में रहेंगे।
सुनीलकुमार जैन, महामंत्री, साउथ गुजरात टैक्सटाइल ट्रेडर्स एसोसिएशन


-मेगा टैक्सटाइल पार्क से मिलेगा बुस्टअप


गुजरात सरकार का बजट शानदार रहा है और कपड़ा उद्योग को 2 मेगा टैक्सटाइल पार्क के प्रस्ताव से भविष्य में बुस्टअप मिलेगा। इसमें एक पार्क सूरत को मिलना चाहिए और टेस्टिंग लेब की सुविधा भी सूरत कपड़ा मंडी को मिलनी चाहिए। व्यापार बढ़ाने के लिए उद्देश्य से स्टार्टअप में महिला-पुरुष उद्यमियों के लिए तय की गई राशि भी भविष्य के लिए अच्छे संकेत है।
नरेंद्र साबू, प्रमुख, सूरत मर्कंटाइल एसोसिएशन

-कपड़ा व्यापारियों के लिए अच्छी बात


राज्य सरकार ने कपड़ा उद्योग के छोटे-बड़े सभी व्यापारियों को बुधवार को प्रस्तुत किए आम बजट में स्थान दिया है, यह अच्छी और खुशी की बात है। प्रावधान की कई बातें फिलहाल स्पष्ट नहीं हो पाई है, लेकिन मेगा टैक्सटाइल पार्क, टैक्सटाइल पैकेज आदि से कोरोना काल में व्यापारिक मंदी का सामना कर रहे कपड़ा व्यापारियों को अवश्य राहत मिलेगी।
रंगनाथ सारड़ा, सचिव, अशोका टावर मार्केट


-सही समय पर सही निर्णय


राज्य सरकार ने कपड़ा उद्योग के लिए इस बार आम बजट में कुछ खास प्रावधान रखे हैं, जिनके प्रति सूरत कपड़ा मंडी में खुशी व्यक्त की जा रही है। कोरोना काल में कपड़ा व्यापारी ने कई मुसीबतें झेली है, ऐसे में जरूरी हो जाता है कि उन्हें सरकारों की तरफ से राहतभरी योजनाएं मिले। गुजरात सरकार का आम बजट कपड़ा उद्योग के लिहाज से ठीक कहा जा सकता है।
जगदीश कोठारी, कपड़ा व्यापारी, शकंर टैक्सटाइल मार्केट

Dinesh Bhardwaj Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned