सोमवार को गूंजा हर-हर भोले

श्रावण मास की शुरुआत होते ही शिवालयों में कोविड-19 की गाइडलाइन के साथ जलाभिषेक

By: Dinesh Bhardwaj

Published: 06 Jul 2020, 09:13 PM IST

सूरत. भगवान भोलेनाथ के श्रद्धालु भक्तों की शिवभक्ति का पवित्र श्रावण मास सोमवार से शुरू हो गया। इस दौरान श्रद्धालुओं ने कोविड-19 की गाइडलाइन के मुताबिक बाबा भोलेनाथ की शिवालय पहुंचकर जलाभिषेक कर पूजा-आराधना की। इस मौके पर कई स्थलों पर जलाभिषेक के आयोजन भी किए गए।
देवाधिदेव महादेव की विशेष भक्ति-आराधना का श्रावण मास सोमवार से शुरू हो गया और इस दौरान श्रद्धालु शिवभक्तों ने कोविड-19 की गाइडलाइन का पालन करते हुए शहर व आसपास के शिवालयों में भगवान शिव का जलाभिषेक किया। इस दौरान शिवालय समेत मंदिरों में श्रद्धालु हर-हर भोले का नाद भी करते रहे और ऊं नम: शिवाय के मंत्रजाप के साथ उन्होंने भगवान शिव का दुग्धमिश्रित जल से अभिषेक किया। इस बार श्रावण मास की शुरुआत सोमवार से हुई है और विशेष माह का समापन भी सोमवार से होगा। श्रावण मास के दौरान पांच सोमवार का अद्भुत संयोग बन रहा है। श्रावण मास की समाप्ति तीन अगस्त सोमवार को होगी। इससे पूर्व श्रावण अमावस्या के बाद शिवभक्ति के दौर में स्थानीय श्रद्धालु भी शामिल हो जाएंगे। वहीं, कोविड-19 की वजह से ज्यादातर बड़े आयोजन स्थगित कर दिए गए हैं।


जागरण आज, विसर्जन कल


पांच दिवसीय अलुणा व्रत का समापन मंगलवार रात जागरण कार्यक्रम के साथ होगा। आषाढ़ कृष्णपक्ष एकादशी से गौरी व्रत और त्रयोदशी से अलुणा एवं जया-पार्वती व्रत की शुरुआत पिछले दिनों श्रद्धालु किशोरियों एवं युवतियों ने की थी। इस दौरान व्रती कन्याओं, युवतियों एवं नवविवाहिताओं ने रोज सुबह शिवालय जाकर विधि-विधान से माता पार्वती की पूजा-अर्चना, कथा श्रवण और अन्य कार्यक्रमों में भाग लिया। मंगलवार को व्रत की पूर्णाहुति के मौके पर जागरण कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा। अलूणा व्रत के मौके पर पांच दिवसीय पूजा के दौरान घरों में स्थापित किए गए जवारों का विसर्जन कर व्रत का उद्यापन बुधवार को किया जाएगा।

Dinesh Bhardwaj Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned