आदिवासियों की सेवा में जुटे स्वास्थ्य सेनानी

केवडी में दो केस सामने आने के बाद बढ़ी उनकी जिम्मेदारी

By: विनीत शर्मा

Published: 23 Apr 2020, 07:21 PM IST

बारडोली. बहुल आदिवासी क्षेत्र उमरपाड़ा तहसील के केवडी में कोरोना के एक साथ दो मामले सामने आते ही स्वास्थ्य विभाग पूरी तरह गांव में सेवा देने में जुटा है। केवडी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र का 48 जनों का स्टाफ गांव में लोगों को कोरोना से बचाव के उपाय भी समझा रहा है।

जान है तो जहां है के सूत्र को चरितार्थ करते हुए केवडी पीएचसी के डॉ. भावेश मिस्त्री की निगरानी में 48 स्वास्थ्य सेनानी जंगलों में रह रहे नागरिकों के स्वास्थ्य के लिए काम कर रहा है। केवडी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के तहत 20 गांव की 23 हजार 014 की आबादी है। स्वास्थ्य टीमें लोगों के घर-घर जाकर स्वास्थ्य जांच कर रही हैं। साथ ही सोशल डिस्टेन्स, घर-शौचालय की सफाई, बार-बार हाथ धोने जैसे कोरोना से बचने के उपाय बताकर आदिवासी लोगों को जागरूक कर रहे हैं।

दो दिन पूर्व ही गांव में दो लोगों के कोरोना पॉजिटिव आने से उनके परिवार के 17 जनों को क्वारंटाइन किया गया है। पीएचसी के मेडिकल ऑफिसर डॉ. भावेश मिस्त्री ने कहा कि केवडी में स्वास्थ्य केंद्र होने के कारण ग्रामीणों को दूर नहीं जाना पड़ता। हम गांव और आसपास के क्षेत्र में कोरोना नहीं फैले इसके लिए पूरी तरह सजग हैं और बचाव के प्रयास कर रहे हैं।

COVID-19 virus
विनीत शर्मा Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned