लॉकडाउन के डर से होने लगी घर वापसी

प्रवासी मजदूरों में गत वर्ष की तरह लॉकडाउन का भय

By: Gyan Prakash Sharma

Updated: 11 Apr 2021, 07:26 PM IST

सिलवासा. कोरोना वायरस के मामलों में अचानक आई तेजी व बॉर्डर सील के डर से मजदूर घर वापसी करने लगे हैं। प्रवासी मजदूरों को गत वर्ष की तरह लॉकडाउन का भय दिखने लगा है। श्रमिक अपने परिवार सहित ट्रेन व बसों की सहायता से घर लौट रहे हैं। रेलों में टिकट के लिए आरक्षण केन्द्रों पर भारी भीड़ देखी जा रही है।

कोरोना महामारी की दूसरी लहर से औद्योगिक इकाई, कल-कारखाने, संस्थान, कार्यालय, कुटीर व्यवसाय आदि सभी पर असर पड़ा हैं। इनमें लगे दिहाड़ी, कॉट्रेक्टर तथा अस्थायी रूप से काम करने वाले मजदूर अब अपने घर जाने के लिए बेताब हैं।

पटना जाने वाले सुनील, तहीर, राजेश ने बताया कि उत्तर प्रदेश व बिहार जाने वाली रेलों में लम्बी प्रतीक्षा सूची चल रही है। तत्काल टिकट भी चंद मिनटों में फुल हो जाती है। अब बस का सहारा बचा है। बस स्टेण्ड पर भी दाहोद, मेघवाड़, अलीराजपूर, धार तक के मजदूर देखे जा सकते हैं। इन मजदूरों का कहना है कि कोरोना के बढ़ते संक्रमण से कहीं लॉकडाउन फिर ना लग जाए। हमें गत वर्ष भारी परेशानियां झेलनी पड़ी थी। लॉकडाउन से पूर्व अफरा-तफरी से बचने के लिए हम अपने घर जा रहे हैं। हमें नहीं पता कि वापिस कब लौटेंगे। महाराष्ट्र की तरह दानह की सीमाएं भी कभी भी सील हो सकती हैं। इस बीच सरकारी अधिकारी कहते हैं कि इस बार लॉकडाउन की संभावना बहुत कम हैं। कोरोना से बचाव के लिए प्रशासन के पास सभी संसाधन उपलब्ध हैं।

Corona virus
Gyan Prakash Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned