जानिए कैसे हुई थी कच्छ एक्सप्रेस में सोने के बिस्कूट व हीरों की लूट

SURAT NEWS :
- आधा दर्जन मामलों में वांछित था मास्टर माइंड राजू बिहारी

सूरत. मुंबई-अहमदाबाद कच्छ एक्सप्रेस में लूट को अंजाम देने वाला मास्टर माइंड राजू बिहारी बेहद शातिर है। पुलिस सूत्रों के मुताबिक वह पहले लूट, अवैध रूप से हथियार रखने, चोरी, शराब तस्करी, मारपीट समेत करीब एक दर्जन मामलों में पकड़ा जा चुका है। सूरत रेलवे पुलिस में उसके खिलाफ चार, लिम्बायत में पांच , उधना, क्राइम ब्रांच और कतारगाम में एक-एक मामला दर्ज है। इनके अलावा हत्या, हत्या के प्रयास, लूट, अवैध हथियार रखने के आधा दर्जन मामलों में सूरत क्राइम ब्रांच, सूरत रेलवे पुलिस, बारडोली, डिंडोली पुलिस, सापुतारा पुलिस और मध्यप्रधेश की खंडवा थाना पुलिस को उसकी तलाश थी। वह लंबे समय से फरार चल रहा था। उसका मुख्य साथी रौनिक मोरडिया भी हत्या, चोरी और लूट के दस मामलों में सूरत शहर तथा अहमदाबाद के अलग-अलग थाना क्षेत्रों में पकड़ा जा चुका है। नीरव लाड के खिलाफ नवसारी और वलसाड में दो मामले दर्ज हैं। गुलशन और नीरज सूरत रेलवे पुलिस थाने में दर्ज हत्या के प्रयास के मामले में फरार थे।


ऐसे दिया था साजिश को अंजाम
क्राइम ब्रांच के मुताबिक शातिर राजू को मुंबई से सूरत के बीच चलने वाली ट्रेनों की अच्छी जानकारी थी। उसे पता था कि कच्छ एक्सप्रेस में आंगडिय़ा पेढिय़ों के कर्मचारी कीमती सामान के साथ सफर करते हंै। उसने अन्य लोगों को साथ मिला कर साजिश रची। साजिश के तहत चार जने वलसाड स्टेशन से हथियारों के साथ एमएसटी बोगी में घुस गए। उन्होंने आंगडिय़ा पेढ़ी के कर्मचारियों पर रिवॉल्वर और पिस्तौल तान दी। प्रवीण सिंह के उनके सिर पर रिवॉल्वर के बट्टे से वार कर उसे जख्मी कर दिया और नकदी, ज्वैलरी, हीरों के पार्सल लूट लिए। डूंगरी फाटक के निकट ट्रेन की रफ्तार कम होने पर वह बोगी से कूद गए। वह फाटक के पास दो कारों में खड़े चार साथियों के साथ फरार हो गए। घटना के बाद राजू, गुलशन और नीरज महाराष्ट्र के नासिक होते हुए बिहार भाग गए। शेष अपने ठिकानों पर ही रहे। उनके बिहार से लौटने पर वह डिंडोली में लूट के माल के बंटवारे के लिए एकत्र हुए थे। उसी दौरान उन्हें धर दबोचा गया।


एक आरोपी है पत्रकार
ट्रेन में लूट करने वाले आरोपियों में गिरफ्तार हितेश वेणिलाल पटेल आदिवासी क्रांति सेना का पूर्व प्रमुख और एक गुजराती अखबार का रिपोर्टर है। उसे कथित तौर पर डीसीबी ने शनिवार को हिरासत में लिया था। रविवार को शंभू उर्फ नीरव लाड को उसके रेस्टोरेंट से पकड़ा गया। बताया जाता है कि आरोपियों ने लूटे गए सोने के बिस्कुट खेरगाम के ही किसी व्यक्ति को 1.50 लाख रुपए में बेच दिए थे।


खेरगाम में दिनभर रही चर्चा
खेरगाम में बुधवार को इस लूट की वारदात का खुलासा होने पर गली-नुक्कड़ों पर चर्चाओं का बाजार गर्म रहा। इस वारदात में कस्बे के ही चार जनों की लिप्तता सामने आने पर कुछ दिनों पहले हुईं चोरी की अन्य घटनाएं भी लोगों की जुबान पर थीं। इन घटनाओं में भी इनकी लिप्तता के कयास लगाए जा रहे हैं।

Dinesh M Trivedi
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned