मैं नहीं, हम की भावना से करें काम: अमित चावड़ा

सूरत जिला कांग्रेस समिति के कार्यकारिणी बैठक बारडोली के गंगाधरा स्थित हरिध्यान हॉल शुक्रवार को हुई। बैठक में कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अमित चावड़ा...

By: मुकेश शर्मा

Published: 25 Apr 2018, 10:14 PM IST

बारडोली।सूरत जिला कांग्रेस समिति के कार्यकारिणी बैठक बारडोली के गंगाधरा स्थित हरिध्यान हॉल शुक्रवार को हुई। बैठक में कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अमित चावड़ा ने कार्यकर्ताओं को जूथवाद नहीं बल्कि बूथवाद की नीति से काम करने की अपील की। उन्होंने चेतावनी दी कि कोई भी पदाधिकारी अपने पद की जिम्मेदारी नहीं समझेगा तो उन्हें पद से हटाने में कोई झिझक नहीं होगी। कार्यकर्ताओं को मैं नहीं हम की भावना से काम करने की अपील की।

बारडोली शहर के गंगाधरा स्थित हरिध्यान हॉल में आयोजित सूरत जिला कांग्रेस कार्यकारिणी की बैठक प्रदेश अध्यक्ष अमित चावड़ा की अध्यक्षता में हुई। बैठक में जिले भर के कांग्रेस नेता, कारोबारी सदस्य और जिला पंचायत, तालुका पंचायत और नगरपालिका प्रतिनिधि उपस्थित थे। अमित चावड़ा ने कहा कि आगामी दिनों हर बूथ पर दो जनमित्र नियुक्त किए जाएंगे, जिसमें एक पुरुष और एक महिला होंगी। उन्होंने चुनाव के दौरान उम्मीदवारों के चयन के लिए जनमित्रों का भी राय लेने की बात कही।


चावड़ा ने नेताओं को चेतावनी दी कि जिस पदाधिकारी व कार्यकर्ताओं को पद मिला है उन्हें अपनी जिम्मेदारी पूरी नैतिकता से निभानी होगी। उन्होंने चेतावनी दी कि कोई भी पदाधिकारी व कार्यकर्ता अपने पद की जिम्मेदारी नहीं समझेगा तो उन्हें पद से हटाने में कोई झिझक नहीं होगी। कई नेता मानते हैं कि उनसे ही पार्टी चलती है तो ऐसे लोगों को यह विचार मन से निकाल देना चाहिए। उन्होंने कहा कि पार्टी में कार्यकर्ताओं का सम्मान होना चाहिए। कार्यकर्ताओं में मतभेद होगा तो चलेगा, लेकिन मनभेद न हो इसका पूरा ख्याल रखना चाहिए। उन्होंने कहा कि पिछले कुछ समय से देश में आरआरएस की विचारधारा थोपी जा रही है। जिससे छुटकारा पाने के लिए हमें दूसरी आजादी की लड़ाई लडऩी होगी।

विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष परेश धानाणी ने कहा कि नेता और कार्यकर्ताओं के बीच की दीवार तोडक़र कांग्रेस का नवसर्जन करना है। उन्होंने ने कार्यकर्ताओं को नेताओं का जनक बताया। सरकार पर आरोप लगाते हुए धानाणी ने कहा कि जस्टिस लाया की मृत्यु के ढाई माह बाद नागपुर की इसी सरकारी रेस्ट हाउस में जहां लोया की मृत्यु हुई थी, जिसमें अमित शाह , सरकारी वकील अनिल सिंह और मामले की सुनवाई कर रहे जस्टिस सामरे दो रात तक रुके थे। तीनों एक ही रेस्ट हाउस में क्या कर रहे थे। उन्होंने सरकार की नीतियों के सामने भी सवाल खड़े किए। कार्यक्रम के दौरान सूरत जिला खेदूत समाज ने विपक्ष नेता परेश धानाणी को गन्ने के कम भाव मिलने पर ज्ञापन सौंपा।

 

मुकेश शर्मा Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned