ऐसा रहा तो बड़ी मुश्किल हो जाएगी

काम-धाम बगैर भी रहता है इस गली में भीड़-भड़क्का, क्षेत्रीय व्यापारियों ने की पुलिस से शिकायत

By: Dinesh Bhardwaj

Updated: 07 Jul 2020, 07:13 PM IST

सूरत. तस्वीरें देखकर एकबारगी चौंक जाओगे कि यह रिंगरोड कपड़ा बाजार में मोटी बेगमवाड़ी क्षेत्र की लॉकडाउन से पहले के नजारे हैं अथवा हाल के हैं। कंधे से कंधा भिड़े बगैर गली में चल नहीं पाए ऐसा भीड़-भड़क्का लॉकडाउन से पहले तो था ही और अब भी है। इस मामले में क्षेत्रीय टैक्सटाइल मार्केट के कपड़ा व्यापारियों की संस्था मोटी बेगमवाड़ी टैक्सटाइल ट्रेडर्स एसोसिएशन ने मंगलवार को ही सलाबतपुरा पुलिस से शिकायत की है कि गली में से यह बेवजह भीड़-भड़क्का हटाया जाए।
यूं तो रिंगरोड कपड़ा बाजार में लॉकडाउन से पहले सभी जगहों पर भीड़-भाड़ रहती थी लेकिन, कोरोना महामारी की शुरुआत के बाद इस पर काफी हद तक अंकुश लगा है तो दूसरा व्यापार का भी अभाव है। मगर मोटी बेगमवाड़ी क्षेत्र में एक जून से शुरू हुए अनलॉक-1.0 से अब तक भीड़-भड़क्के के हालात में कोई परिवर्तन नहीं आया है। शुरुआत में क्षेत्रीय व्यापारियों ने भी इस पर ध्यान नहीं दिया मगर अनलॉक-2.0 की शुरुआत से पहले ही शहर में कोरोना संक्रमण बढ़ता गया और प्रशासनिक त्योरियां भी चढ़ती गई। इसके बावजूद मोटी बेगमवाड़ी क्षेत्र में रोजाना के भीड़-भड़क्के को देखते हुए लगता है कि यहां ना तो कोरोना का भय है और ना ही प्रशासन की नजर। क्षेत्र के हालात से दुखी होकर मोटी बेगमवाड़ी टैक्सटाइल ट्रेडर्स एसोसिएशन ने हालात को काबू में लेने के लिए सलाबतपुरा पुलिस के समक्ष गुहार लगाई है।


बगैर काम-धाम जमावड़ा


एसोसिएशन ने पुलिस को बताया कि रोज सुबह 10 बजे से शाम 6 बजे तक बड़ी संख्या में लोग पहुंच जाते हैं। अनलॉक-1.0 से खुले कपड़ा बाजार में कोई विशेष व्यापार भी नहीं है लेकिन, मोटी बेगमवाड़ी क्षेत्र में खड़े टेम्पो और लोगों की आवा-जाही को देख ऐसा लगे कि यहां बड़े पैमाने पर कारोबार हो रहा है और इन्हें कोरोना का भय भी नहीं है। पत्र में पुलिस से क्षेत्र में गश्त बढ़ाकर असामाजिकतत्वों व भीड़ पर लगाम लगाने की मांग की गई है।


पत्रिका ने चेताया था


72 दिन के बंद के बाद अनलॉक-1.0 की शुरुआत में एक जून से जब रिंगरोड कपड़ा बाजार की शुरुआत हुई भी तब राजस्थान पत्रिका ने मोटी बेगमवाड़ी कपड़ा बाजार में आगामी दिनों में बनने वाले भीड़-भड़क्के के हालात और उससे कोरोना संक्रमण के भय के बारे में व्यापारियों समेत सभी को चेताया था। अब जो तस्वीरें मोटी बेगमवाड़ी क्षेत्र से सामने आ रही है, उसमें साफ प्रतीत हो रहा है कि पत्रिका की क्षेत्र के बारे में कही गई बात बिल्कुल सत्य थी।


तीन दर्जन मार्केट में हैं यहां से आना-जाना


रिंगरोड़ कपड़ा बाजार में रोहित एसी मार्केट से मोटी बेगमवाड़ी क्षेत्र की गली में प्रवेश के बाद क्षेत्र में तीन दर्जन से ज्यादा टैक्सटाइल मार्केट में लोगों का आना-जाना होता है। इसी क्षेत्र में राधाकृष्ण टैक्सटाइल मार्केट भी है, जिसमें साढ़े पांच हजार से ज्यादा दुकानें भी है। वहीं, गली में ज्यादातर टैक्सटाइल मार्केट में रिटेल काउंटर होने की वजह से यहां ग्राहकों के रूप में भीड़-भड़क्का अधिक रहता है और संकरी गली होने से आने-जाने में दिक्कत होती है।

Dinesh Bhardwaj Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned