इण लहरिया रा नौसौ रुपिया रोकड़ा सा...

कोरोना वायरस के प्रति सतर्कता के साथ त्योहार मनाने में व्यस्त प्रवासी राजस्थानी महिलाएं

By: Dinesh Bhardwaj

Published: 19 Mar 2020, 09:23 PM IST

सूरत. वैश्विक स्तर पर घबराहट फैलाने वाले कोरोना वायरस संक्रमण के प्रति पूरी सतर्कता के साथ सूरत महानगर में प्रवासी राजस्थानी महिलाएं लोकपर्व गणगौर मनाने में व्यस्त है। परम्परागत त्योहार के दौरान होली पर पीहर आई गौर माता का मान-मनुहार शीतलाष्टमी के बाद से लगातार बढ़ता ही जा रहा है। चैत्र शुक्ल तृतीया को उनकी ईसरजी के साथ विदाई से पूर्व पीहर में उनके सम्मान में सुबह पूजा, दोपहर में बिंदोळे व रात्रि में गीतों के आयोजन शहर में खूब हो रहे हैं। इस सिलसिले में शहर के परवत पाटिया, टीकमनगर, पुणागांव, गोडादरा, उधना, भटार, घोडदौडऱोड, अलथाण, सिटीलाइट, न्यू सिटीलाइट, वेसू आदि क्षेत्र में सुबह गणगौर पूजन, दोपहर में नाचते-गाते बिंदोळा आयोजन व रात्रि में लोकगीत, बधावे व फिल्मी गीतों की पेरॉडी के आयोजन में बच्चियां, युवतियां व महिलाएं शामिल हो रही है।

सतर्क है पर और भी जरूरत


सोलह दिवसीय गणगौर उत्सव के दौरान प्रवासी राजस्थानी महिलाएं जहां लोकपर्व को परम्परागत तरीके से मनाने में सक्रिय है, वहीं कोरोना वायरस के प्रति भी उनकी सतर्कता बनी हुई है। कई स्थलों पर कोरोना वायरस से बचाव के लिए वे मुंह पर मास्क लगाकर गणगौर पूजन में भाग ले रही है। राजस्थान पत्रिका अपने पाठकों के इन प्रयासों की सराहना करती है और कोरोना वायरस के प्रति और अधिक सतर्कता बरतने की सलाह देती है। सुबह गणगौर पूजन, दोपहर में बिंदोळा आयोजन व रात्रि में लोकगीत आदि के दौरान सभी स्थलों पर भाग लेने वाले सेनेटाइज अवश्य हों, ताकि वे संक्रामक रोग से दूर रह सके और उत्सव भी मना सकें। आयोजक भी आयोजन स्थल पर सेनेटाइजर, मास्क, हाथ धोने के लिए पानी-साबुन रखकर सहयोगी बन सकते हैं।

Dinesh Bhardwaj Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned