बस एक एप डाउनलोड कर इस तरह उठाएं हाइटेक साइकिल का लुत्फ

सूरतीयों में बढऩे लगा साझे की साइकिलों का क्रेज, एप ‘चार्टर्ड बाइक सूरत’ पर हो रहे हैं रजिस्ट्रेशन, सुबह और रात को मांग ज्यादा

By: विनीत शर्मा

Updated: 27 Nov 2019, 10:41 PM IST

विनीत शर्मा

सूरत. मनपा प्रशासन की साझे की साइकिल की पहल रंग लाती दिख रही है। मनपा ने इसके लिए चार्टर्ड बाइक सूरत के नाम से एप तैयार किया है, जिस पर लोग साइकिल के लिए रजिस्ट्रेशन करा रहे हैं। मनपा प्रशासन के मुताबिक पहले यह एप एंड्रायड फोन पर ही काम कर रहा था, लेकिन अब इसे आइफोन के लिए भी लॉन्च कर दिया गया है।

सूरत महानगर पालिका प्रशासन ने करीब दो साल पहले भोपाल पैटर्न पर शहर में साझे की साइकिल चलाने का निर्णय किया था। दो साल बाद यह कवायद रंग लाने लगी है। शुरुआत में इसे कोट विस्तार में सीमित रखा गया था, लेकिन बाद में अठवा जोन में डूमस रोड और रिंगरोड पर भी लोगों को साझे की साइकिलें मिलने लगी हैं। सुबह के समय और शाम को सूरज ढलते ही लोग बड़ी संख्या में इन साइकिलों का इस्तेमाल कर रहे हैं।
जिस तरह साझे की साइकिलें लोगों के बीच पैठ बना रही हैं, मनपा प्रशासन ने भविष्य में इन्हें अन्य क्षेत्रों में भी शुरू करने का मन बनाया है। फिलहाल इसके लिए 35 नए स्टेशन बनाए गए हैं, जिनपर अभी और साइकिलें रखी जानी हैं। मनपा के मुताबिक पहले फेज में 40 स्टेशन बनाए जाने हैं। आने वाले दिनों में इनमें 1160 साइकिलें रखी जाएंगी।
इस तरह कराएं रजिस्ट्रेशन

मनपा प्रशासन ने चार्टर्ड बाइक सूरत (chartered bike surat) के नाम से एप तैयार किया है। पहले यह एप एंड्रायड मोबाइल सिस्टम पर ही काम कर रहा था। बाद में मनपा प्रशासन ने आइफोन प्लेटफॉर्म के अनुकूल भी एप तैयार कर लॉन्च कर दिया है। शहर में साझे की साइकिल चलाने के लिए मोबाइल पर यह एप डाउनलोड करना होगा। एप पर रजिस्ट्रेशन के बाद ही साइकिल ली और दी जा सकेगी। इस एप के जरिए अब तक 20 हजार से ज्यादा रजिस्ट्रेशन हो चुके हैं। डिप्टी कमिश्नर राजेश पंड्या ने बताया कि 400 साइकिलों को टेस्ट फेज पर चलाया जा रहा है। टेस्ट फेज दिसंबर में पूरा हो जाएगा।
पार्षदों में भी जागरुकता जरूरी

भाजपा पार्षद एवं सांस्कृतिक समिति की सदस्य रूपल शाह ने इन साइकिलों के प्रति पार्षदों में भी जागरुकता की जरूरत बताई है। उन्होंने महापौर से मांग की है कि पक्ष-विपक्ष के सभी पार्षदों के साथ बैठक कर उन्हें साइकिल प्रोजेक्ट से अवगत कराया जाए। उन्होंने कहा कि साइकिल प्रोजेक्ट को सफल बनाने के लिए पार्षदों को आगे आना चाहिए।

जलवायु परिवर्तन की गति होगी धीमी

संयुक्त राष्ट्र संघ के मुताबिक मोटर्ड व्हीकल को सडक़ों से हटा लिया जाए तो जलवायु परिवर्तन की गति को धीमा किया जा सकता है। जलवायु परिवर्तन का खतरा समुद्र किनारे के शहरों पर अधिक बताया जा रहा है। सूरत भी समुद्र किनारे बसा है। राजस्थान पत्रिका ने पिछले दिनों जलवायु परिवर्तन के कारण और सूरत पर पड़ सकने वाले असर को लेकर सिलसिलेवार समाचार प्रकाशित किए थे।

Show More
विनीत शर्मा Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned