जानिए क्यों दोपहर में बाहर निकलने से कतराते हैं लोग

गर्मी बढऩे से लोग हलकान, पारा 39 डिग्री पार

By: Sunil Mishra

Published: 04 Apr 2019, 07:17 PM IST

 

सिलवासा. अप्रेल की दस्तक के साथ गर्मी ने तेवर दिखाने आरम्भ कर दिए हैं। दिन चढ़ते ही तापमान भी बढऩे लगता है। दोपहर में सडक़ें सुनसान हो जाती हैं। इस बार फरवरी तक तेज सर्दी रही। वहीं, गर्मी का आगाज भी धमाकेदार हुआ है। बाजारों में इलेक्ट्रॉनिक्स की दुकानों पर कूलर-एसी की बिक्री आरम्भ हो गई है। आलम यह है कि पंखे न केवल गर्म हवा फेंक रहे हैं। ऐसे में पुराने पड़े कूलरों की साफ-सफाई करके चालू किया जा रहा है, वहीं शीतल पेय पदार्थो की बिक्री जोरों पर है। आगामी दिनों में चुनावों की गर्मी के बीच गर्मी अपना क्या रंग दिखाएगी, इसको लेकर लोग चिंतित है। गुरुवार को प्रदेश में पारा 39 डिग्री सेल्सियस पार कर गया है। धूप एवं लू से बचाव के लिए लोग घरों में ही रहना मुनासिब मानते हंै। अब तो गर्मी के कारण पशु भी व्याकुल नजर आने लगे हैं। गर्मी-धूप से बचने के लिए पेड़ों की छाया तले पशुओं के झुंड देखे जा सकते हैं।

patrika


पानी का गहराने लगा संकट
प्रदेश के पर्वतीय क्षेत्रों में भी तापमान में तेजी से वृद्धि हुई है। खानवेल, मांदोनी, सिंदोनी, आंबोली, खेरड़ी में घने जंगलों के बावजूद तापमान 40 डिग्री पहुंच गया है। तेज धूप से जंगलों की वनस्पति दम तोड़ रही है। जंगलों में बहने वाले झरने व तालाब सूख गए हैं। खानवेल की साकरतोड़ नदी में पानी तलछट के रूप में बचा है। खुटमाण में लोग गहरे कुएं से पानी लाने को मजबूर हैं। लुहारी में पानी का संकट ज्यादा बढ़ गया है। प्रशासन ने पेयजल के लिए गांवों में पानी की टंकियां रखी हैं। लुहारी निवासी कनीबेन वड़ का कहना है कि इन टंकियों में दो दिन से पानी भरा जाता है। लुहारी विस्तार के सभी पाड़ों में भूमिगत जल पाताल में चला गया है। बोरवेल में पानी नहीं रहा। प्रदेश के उद्योग परिसरों में धूप और गर्मी की चिपचिपाहट अधिक है। चालू सप्ताह में रात के तापक्रम में 4 डिग्री तक वृद्धि हुई है। प्रदेश में सुबह मौसम साफ रहा, लेकिन दिनभर लोग पसीने से तरबतर नजर आए।

 

patrika


गर्मी में तरोताजा रखने में तरबूज सबसे उत्तम फल
गर्मी में तरोताजा रखने में तरबूज सबसे उत्तम फल है। गर्मी के कारण तरबूजों की बिक्री में तेजी आई है। प्रयोसा अस्पताल के पास तरबूज विक्रेता सलीमभाई, रमणभाई कहते हैं कि अब वाडिय़ों में देशी तरबूजों के भाव बढ़ गए हैं। बाजारों में चाइनीज तरबूज पहुंच गए हैं। देशी तरबूज गर्मी और लू से राहत देने वाला फल है।

Sunil Mishra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned