खेल-खेल में स्वच्छता का सीखा सबक

राजस्थान पत्रिका के बीक्लीनगोग्रीन सफाई को हां, प्लास्टिक को ना...अभियान ने दक्षिण गुजरात में पकड़ा जोर

सूरत. सामाजिक सरोकार की दिशा में हर पल और हर कदम पाठकों व आम जनता के बीच गहरी विश्वास की जड़ें जमाने में कामयाब रही राजस्थान पत्रिका ने 70वें गणतंत्र दिवस से एक नई पहल स्वच्छता के क्षेत्र में की है। राजस्थान पत्रिका की ओर से स्वर्णिम भारत के तहत शुरू किया गया बीक्लीनगोग्रीन सफाई को हां, प्लास्टिक को ना...अभियान देखते ही देखते सूरत समेत दक्षिण गुजरात के पाठकों व आम जनता के बीच अपने विश्वास को मजबूती देता प्रतीत होने लगा है।
राजस्थान पत्रिका देश के आमजन की जरूरतों को ध्यान में रख सामाजिक सरोकार के क्षेत्र में सदैव सक्रिय रहती है और एक बार फिर उसने यह कमान स्वच्छता की दिशा में संभाली है। राजस्थान पत्रिका के स्वर्णिम भारत के तहत शुरू किया गया बीक्लीनगोग्रीन सफाई को हां, प्लास्टिक को ना...अभियान से सूरत महानगर में बच्चों को सर्वप्रथम जोडऩे का प्रयास किया गया है और यह सफल भी हो रहा है। इसमें परवत पाटिया क्षेत्र की एसवी पब्लिक स्कूल के साढ़े सातसौ बच्चों ने पहले स्वच्छता अभियान की जरूरत को समझा और बाद में अपनी जिम्मेदारी का एहसास करते हुए संकल्प लिया। इस मौके पर 5 से 15 साल के बच्चे कार्यक्रम में मौजूद रहे और उन्होंने एक स्वर में घर, स्कूल, खेल मैदान समेत अन्य स्थानों को साफ-सुथरा रखने में अपनी जिम्मेदारी को समझा। कार्यक्रम के दौरान स्कूल के डायरेक्टर ताराचंद ढाका, प्रिंसीपल मनीषा चक्रवर्ती, विनोद पाटिल, अनुपमा चतुर्वेदी, शशिकांत समेत अन्य शिक्षक व स्टाफ मौजूद था।


घर से करुंगी शुरुआत


साफ-सफाई बेहद बहुत जरूरी है। मैं अपने घर से ही शुुरुआत करुंगी। कचरा नहीं फैलाउंगी और साफ-सफाई में मां की मदद करुंगी।
- कृतिका धूपड़, एसवी पब्लिक स्कूल


अस्पताल में करुंगी सफाई


कई अस्पतालों में लोग कचरा कर देते है। जो गंभीर है, मैं अस्पतालों में कचरा एकत्र करूंगी तथा अन्य लोगों को भी इसके लिए प्रेरित करुंगी।
- ऋतिका कशवाहा, एसवी पब्लिक स्कूल


कचरा नहीं फैलाउंगा


मेरे घर, सोसायटी में हर जगह साफ-सफाई होती है। अब मैं भी साफ जगहों पर कचरा नहीं फैलाउंगा। इसके अलावा इस बारे में अन्य लोगों को भी जानकारी दूंगा।
- विनय जैैन, एसवी पब्लिक स्कूल


साफ-सफाई में सहयोग दूंगा


घर, स्कूल, सोसायटी, सडक़ हर जगह को साफ रखने में सहयोग करुंगा तथा और को भी प्रेरित करुंगा। जहां भी कचरा दिखाई देगा उसे कूड़ेदान में डालूंगा।
- साहिल माहेश्वरी, एसवी पब्लिक स्कूल


कचरे से फैलती है बीमारियां


कचरे की वजह से तरह-तरह की बीमारियां फैलती है। मैं हर समय सतर्क रहूंगी कि कहीं पर किसी तरह से कचरा एकत्र नहीं हो। जहां भी कचरा नजर आएगा उसे कूड़ेदान तक पहुंचाऊंगी
- मुस्कान प्रजापति, एसवी पब्लिक स्कूल


स्वच्छता के लिए प्रेरित करेंगे


स्वच्छता बेहद जरुरी है। जितना हमारा पर्यावरण स्वच्छ होगा उतना ही हमारे लिए अच्छा होगा। मैं अपनी स्कूल में शिक्षकों के माध्यम से छात्रों को स्वच्छता के लिए और प्रेरित करूंगी। साथ ही अन्य लोगों को भी इसका महत्व समझाऊंगी।
- मनीषा चक्रवर्ती, प्रिसिंपल, एसवी पब्लिक स्कूल


सराहनीय व अनुकरणीय पहल


राजस्थान पत्रिका ने एक बार फिर जनहित के मुद्दे को उठाया है और स्वच्छता की जरूरत पर जोर दिया है। इससे पहले अमृतं जलम्, हरित प्रदेश अभियान सूरत समेत दक्षिण गुजरात में जन-जन को छू चुके है।
ताराचंद ढाका, डायरेक्टर, एसवी पब्लिक स्कूल

Dinesh Bhardwaj Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned