पिता की अंत्येष्टी धार्मिक विधि से नहीं होने पर तैयार किया हाईकोर्ट का फर्जी पत्र

- पारसी समाज की अंत्येष्टी को लेकर अफवाह फैलाने का मामला
- साइबर क्राइम पुलिस ने पोस्ट ऑफिस से मिले सुराग से किया गिरफ्तार

- A case of spreading rumors about the funeral of the Parsi community
- Cybercrime police arrested with clues from post office

By: Dinesh M Trivedi

Published: 02 May 2021, 01:40 PM IST

सूरत. हाईकोर्ट का फर्जी पत्र तैयार कर पारसी पंचायत के खिलाफ भावनाएं भड़़ाने का प्रयास करने के आरोप में साइबर क्राइम पुलिस ने एक युवक को गिरफ्तार किया है। उसने यह कदम अपने पिता की कोरोना से मृत्यु के बाद पारसी विधि से अंत्येष्टी नहीं हो पाने के कारण उठाया था।

साइबर पुलिस के मुताबिक नानपुरा टिमलियावाड निकुंज सोसायटी निवासी आरोपी माहियार पटेल पढ़ा लिखा है। उसने एलएलएम व पीएचड़ी भी की हुई है तथा लालगेट पर पटेल ड्राइविंग स्कूल चलाता है। पिछले दिनों उसके पिता की कोरोना संक्रमण की वजह से मौत हो गई थी। जिसकी वजह से उसके पिता की अंत्येष्टी कोविड गाइडलाइन के मुताबिक की गई थी। इस बात से वह आहत था। पारसी पंचायत को बदनाम करने और अफहवाह फैलाने के इरादे से उसने सूरत पारसी पंचायत के नाम हाईकोर्ट का फर्जी पत्र तैयार किया।

उसे सूरत पारसी पंचायत को भेजा और सोशल मीडिया में भी वायरल कर दिया। गत 21 अप्रेल को यह पत्र पारसी पंचायत को मिलने और सोशल मीडिया में वायरल होने की जानकारी मिलने पर पंचायत की ओर से रोहिंन्टन बेजनजी मेहता ने साइबर क्राइम में प्राथमिकी दर्ज करवाई थी। जिसके आधार पर पुलिस ने जांच शुरू की तो जांच में पता चला कि पत्र महिधरपुरा पोस्टऑफिस से भेजा गया था। वहां सीसी टीवी फुटेज की जांच में पुलिस को मोटरसाइकिल का नम्बर मिला। उस नम्बर के आधार पर पुलिस ने माहियार के यहां छापा मारा। पुलिस को छानबिन में हाईकोर्ट की फर्जी सील भी बरामद हुई। इस पर उसे गिरफ्तार कर लिया।
---------------------

Dinesh M Trivedi Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned