रैली निकालकर पक्षियों के लिए दिया करुणा का संदेश

वन विभाग के संयोजन में निकाली गई रैली

By: Sunil Mishra

Published: 10 Jan 2019, 10:57 PM IST


वापी. विद्यार्थियों ने रैली निकालकर गुरुवार को जीव के प्रति करुणा का संदेश दिया। वन विभाग के संयोजन में निकाली गई इस रैली में श्रीकृष्णा इंटरनेशनल स्कूल के विद्यार्थी, पुलिस समन्वय टीम समेत अन्य संस्थाओं से जुड़े लोग शामिल हुए थे। रैली में पोस्टर और बैनर लेकर शामिल हुए छात्रों ने मकर संक्रान्ति पर्व के दौरान चाइनीज मांझा से पक्षियों को बचाने का अनुरोध किया। लोगों से सुबह पांच बजे से नौ बजे एवं शाम को पंाच बजे से शाम सात बजे तक पतंग न उड़ाने का अनुरोध भी किया है। रैली गुंजन स्थित श्रीकृष्णा इंटरनेशनल स्कूल से शुरू होकर वंदेमातरम सर्कल, अंबामाता सर्कल होते हुए पुन: स्कूल पहुंचकर संपन्न हुई। इसमें उपस्थित वापी आरएफओ विनल पटेल ने बताया कि मकर संक्रान्ति पर्व पर सरकार द्वारा करुणा अभियान चलाया जाता है।

patrika

 

चाइनीज मांझे का उपयोग जानलेवा
उन्होंने कहा कि पक्षी सुबह निकलते हैं और शाम को लौटते हैं। जिससे सुबह में पांच से नौ एवं शाम को पांच से सात बजे तक पतंग न उड़ाई जाए। साथ ही चाइनीज मांझे का उपयोग भी पतंगबाजी में न करने का अनुरोध किया जा रहा है। यह मांझा पक्षियों के साथ वाहन चालकों के लिए भी जानलेवा साबित होता है। मकर संक्रान्ति के दौरान पतंग के धागों से घायल पक्षियों का उपचार करने के लिए कैम्प भी लगाया जाएगा। घायल पक्षियों के बारे में रेस्क्यू टीम, वन विभाग एवं जीवदया संस्थाओं को सूचना देने की अपील भी की। उन्होंने लोगों से भी मकानों की छतों पर पतंग उड़ाते समय सावधानी रखने का आग्रह किया। इस रैली में पुलिस समन्वय टीम प्रमुख राजेश शर्मा, मुकेश उपाध्याय, स्कूल की चेयरमैन कृति मुंद्रा समेत वन विभाग के अन्य अधिकारी व कर्मचारी समेत विविध संस्थाओं के लोग शामिल हुए थे।

 

patrika

दमण के छात्र गोवा में चमके
दमण. दमण के छात्रों ने गोवा के आंतर राज्य सांस्कृतिक कार्यक्रम में अपना जलवा दिखाया। छात्रों द्वारा कार्यक्रम में माछी एवं पुर्तगीज नृत्य पेश किए गए। गोवा बाल भवन निदेशक ने दमण की प्रस्तुति को बेहतरीन बताया। दमण के 8 छात्रों ने इसमें भाग लिया।

Sunil Mishra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned