Surat/ मानसून की विदाई,उकाई बांध लबालब

बांध का जलस्तर 344.64 फुट, इनफ्लो 40 हजार क्यूसेक

By: Sandip Kumar N Pateel

Published: 06 Oct 2021, 09:30 PM IST

सूरत. सितम्बर महीने में भारी बारिश के दौर के बाद आखिकार उत्तर-पश्चिम भारत से मानसून की आधिकारिक रूप से विदाई हो गई है। सितम्बर में हुई बारिश के कारण दक्षिण गुजरात की जीवन डोर समान उकाई बांध लबालब हो गया है। वहीं अब बारिश होने की संभावना नहीं होने के कारण कर बांध प्रशासन ने आउट फ्लो घटाकर सिर्फ 6 हजार क्यूसेक कर दिया है।


मौसम विभाग की ओर से आधिकारिक रूप से उत्तर और पश्चिम भारत से मानसून की आधिकारिक रूप से घोषणा की ग
ई है। आम तौर पर 27 जून से मानसून सक्रिय होता है, लेकिन इस बार मानसून 11 जून से पहले ही दस्तक दे दी थी। हालांकि जुलाई के बाद अगस्त महीना पूरी तरह से सूखा रहा था , लेकिन सितम्बर महीने की शुरूआत के साथ जो भारी बारिश का दौर शुरू हुआ और वह महीने के अंत तक चला, जिससे सूरत जिला समेत दक्षिण गुजरात के नदी-नाले, चेकेडम और उकाई बांध लबालब हो गए। बुधवार को बांधकाम जलस्तर 344.64 फुट दर्ज किया गया। बारिश की अब संभावना नहीं होने से बांधप्रशासन ने आउटफ्लो घटाकर 6 हजार क्यूसेक कर दिया है, जबकि बांध में 40 हजार क्यूसेक की आय अब भी हो रही हैं।


शहर में मौसम की कुल 1568 एमएम बारिश


शहर में इस बार मौसम के कुल औसत बारिश से अधिक यानी 111 फीसदी बारिश हुई। शहर में 11 जून को मानसून ने दस्तक दी थी और पहली पारी धमाकेदार रही थी, लेकिन बाद में मानसून कमजोर पड़ गया था। अगस्त महीना पूरी तरह सूखा गया था, तब अनुमान लगाया जा रहा था कि इस बार औसत बारिश के आंकड़ा भी पार नहीं हो पएगा, लेकिन सितम्बर महीने में हुई भारी बारिश ने औसत बारिश के आंकड़ें को पार कर लिया। मनपा के फ्लड कंट्रोल विभाग के मुताबिक शहर में इस मानसून में 1568 एमएम यानी 62.72 इंच बारिश हुई।

Sandip Kumar N Pateel Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned