CORONA NEWS : इस प्रदेश के 19 लाख से अधिक विद्यार्थी बिना परीक्षा के पास !

- मास प्रमोशन को लेकर शिक्षा जगत में छिड़ी बहस...

- ज्यादातर संचालकों और अभिभावकों का मानना है कि प्रमोशन के अलावा कोई विकल्प नहीं

By: Divyesh Kumar Sondarva

Published: 17 Apr 2021, 07:32 PM IST

सूरत.

गुजरात के शिक्षा जगत में पहली बार ऐसा होगा कि बिना परीक्षा ही लगातार दो साल से लाखों विद्यार्थी पास हो रहे हैं। सूरत की बात की जाए तो कक्षा 1 से 9 और 11वीं को मिलाकर नौ लाख से अधिक विद्यार्थी एक भी प्रश्न का जवाब दिए बिना अगली कक्षा में पहुंच जाएंगे। राज्य में बढ़ रहे कोरोना संक्रमण को देखते हुए राज्य सरकार ने मास प्रमोशन देने की घोषणा की है। इस फैसले से सूरत समेत दक्षिण गुजरात के 19 लाख से अधिक विद्यार्थी बिना परीक्षा पास हो जाएंगे, लेकिन सरकार के इस फैसले को लेकर शहर के शिक्षा जगत में बड़ी बहस छिड़ गई है। प्रमोशन विद्यार्थियों के लिए वरदान है या अभिशाप, यह समझ पाना मुश्किल हो रहा है।
कोरोना ने दुनियाभर में हाहाकार मचा रखा है। कोरोना से बचने के लिए सरकार ने मार्च- 2020 से लॉकडाउन लगाया था। तब से लेकर अब तक देशभर के स्कूलों में सही से ऑफलाइन पढ़ाई हो ही नहीं पाई है। इसलिए मार्च 2020 में राज्य सरकार ने कक्षा 1 से 9 और 11वीं के विद्यार्थियों को मास प्रमोशन दिया था। इसके बाद पूरे साल ऑनलाइन शिक्षा का दौर चला। बीच में ऑफलाइन कक्षाओं को शुरू करने का प्रयास किया गया, लेकिन कोरोना की दूसरी लहर के चलते ऑनलाइन कक्षाएं जारी रखी गई। मार्च-अप्रेल परीक्षा का समय है। कोरोना के बढ़ते मामले देख परीक्षा पर असमंजस की स्थिति बनी हुई थी।

लगातार दो साल से बिना परीक्षा के पास
सीबीएसई ने 10वीं की परीक्षा को रद्द और 12वीं की परीक्षा स्थगित करने की घोषणा की। इसके तुरंत बाद गुजरात सरकार ने गुजरात बोर्ड की 10वीं और 12वीं की परीक्षा को स्थगित कर दिया और 1 से 9 व 11वीं के विद्यार्थियों को प्रमोशन देने की घोषणा की। इस घोषणा को लेकर असमंजस की स्थिति बन गई है। प्रमोशन लाभ है या वरदान यह किसी को समझ नहीं आ रहा है। लेकिन हाल की स्थिति को देख सभी का यह ही कहना है कि इसके अलावा कोई अन्य विकल्प ही नहीं है।

कहां कितने विद्यार्थियों को लाभ
इस फैसले के चलते सूरत जिले के 9 लाख 92 हजार से अधिक विद्यार्थी दूसरी बार बिना परीक्षा दिए ही पास हो जाएंगे। दक्षिण गुजरात के अन्य जिलों की बात की जाए तो नवसारी जिले के 1 लाख 77 हजार, भरुच जिले के 2 लाख 42 हजार, वलसाड़ जिले के 2 लाख 82 हजार, डांग जिले के 56 हजार, नर्मदा जिले के 85 हजार और तापी जिले के 1 लाख 10 हजार विद्यार्थी बिना परीक्षा के ही अगली कक्षा में पहुंच जाएंगे। कुल मिलाकर दक्षिण गुजरात के 19 लाख से अधिक विद्यार्थी मास प्रमोशन का लाभ लेकर बिना परीक्षा अगली कक्षा में पहुंचने वाले हैं।

Divyesh Kumar Sondarva Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned