scriptMore than seven gangs active in Surat in chemical disposal network | Surat/ केमिकल निस्तारण नेटवर्क में सूरत में सात से अधिक गिरोह सक्रिय | Patrika News

Surat/ केमिकल निस्तारण नेटवर्क में सूरत में सात से अधिक गिरोह सक्रिय

पुलिस और जीपीसीबी के अधिकारियों से मिलीभगत में चल रहा था नेटवर्क, हादसे के बाद सभी भूगर्भ में

सूरत

Updated: January 11, 2022 12:50:24 pm

सूरत. सचिन जीआइडीसी केमिकल कांड की जांच के दौरान अब पूरे नेवटर्क को लेकर नई -नई परतें खुलती जा रही हैं। जांच में यह पता चला है कि केमिकल के अवैध निस्तारण नेटवर्क में प्रेम गुप्ता और उसका अकेला गिरोह ही नहीं, बल्कि सात से अधिक गिरोह सक्रिय है, जो रुपए वसूल कर सूरत और आसपास के इलाकों की खाडिय़ों में केमिकल वेस्ट का निस्तारण करवाते हैं।
Surat/ केमिकल निस्तारण नेटवर्क में सूरत में सात से अधिक गिरोह सक्रिय
Surat/ केमिकल निस्तारण नेटवर्क में सूरत में सात से अधिक गिरोह सक्रिय

पुलिस विभाग के सूत्रों ने बताया कि सूरत और आसपास के गांवों में केमिकल के अवैध निस्तारण का नेटवर्क लंबे अरसे से चल रहा है और अलग-अलग गिरोह इसमें सक्रिय है। जिसमें अजय, रशिद, सुनिल, गभरू, नजीर, नानजी और रवि मारवाड़ी जैसे गिरोह के नाम सामने आ रहे हैं। क्राइम ब्रांच पुलिस अब इन गिरोह की जांच में जुट गई है। इन गिरोह के वापी से लेकर अंकलेश्वर-दहेज की केमिकल कंपनियों के संपर्क हैं। ऐसे में आगामी दिनों में और भी गिरफ्तारियां संभव है। गौरतलब है कि सचिन जीआइडीसी में केमिकल के अवैध निस्तारण के दौरान जहरीली गैस फैलने से छह श्रमिकों की मौत हो गई थी और 23 श्रमिकों को गंभीर असर पहुंची और उन्हें अस्पताल में भर्ती करना पड़ा था।

सचिन समेत आसपास के गांवों की खाडिय़ों में केमिकल का निस्तारण


सूत्रों के मुताबिक अलग-अलग गिरोह की ओर से सचिन जीआइडीसी के अलावा, दीपली गांव, गभेणी, आभवा, कड़ोदरा, पलसाणा, जोलवा और बलेश्वर आदी गांवों से गुजरने वाली खाडिय़ों में केमिकल वेस्ट का अवैध तरीके से निस्तारण किया जाता है। यह गिरोह टैंकर के सूरत जिले में प्रवेश करने से लेकर उनका निस्तारण और टैंकर बाहर निकालने तक की जिम्मेदारी लेते हैं और डेढ़ से दस लाख रुपए वसूलते हैं। बताया जा रहा है पुलिस और जीपीसीबी के अधिकारियों से मिलीभगत में यह पूरा नेटवर्क चलाया जा रहा था।

परिवर्तन ट्रस्ट ने सौंपा ज्ञापन


सचिन जीआइडीसी और आसपास के गांवों में केमिकल वेस्ट के अवैध तरीके से निस्तारण करने को लेकर परिवर्तन ट्रस्ट भी अब मैदान में उतरी है। ट्रस्ट की ओर से सोमवार को जिला कलक्टर को ज्ञापन सौंपा गया। ट्रस्ट के पदाधिकारियों ने बताया कि पुलिस और जीपीसीबी की मिलीभगत से यह पूरा नेवटर्क चलता है। भ्रष्टाचार की वजह से 6 निर्दोष लोगों को जान गवानी पड़ी हैं, ऐसे में तह तक जांच कर पूरे नेटवर्क को खत्म करना चाहिए।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.