नवजात को रेलवे ब्रिज के नीचे छोड़ माता फरार

नवजात को रेलवे ब्रिज के नीचे छोड़ माता फरार

Sandip Kumar N Pateel | Publish: Sep, 07 2018 02:04:01 PM (IST) Surat, Gujarat, India

बच्ची न्यू सिविल अस्पताल के आइसीयू में भर्ती

सूरत. सचिन-कनसाड़ रेलवे ब्रिज के पास पेड़ के नीचे से एक छह से सात दिन की नवजात बच्ची लावारीस हालत में मिली। बच्ची को देखने बड़ी संख्या में लोग मौके पर उमड़े। सूचना मिलने पर पुलिस ने मौके पर पहुंचकर बच्ची का कब्जा लिया और उसे न्यू सिविल अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। पुलिस ने अज्ञात महिला के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।


रजाई और गुलाबी रंग के बेबी रूमाल में लपेट कर रखा था नवजात को


लोगों ने बताया कि जब उन्होंने पेड़ के निचे नवजात को देखा तब उसे रजाई और गुलाबी रंग के बेबी रूमाल में लपेटा हुआ था। इसके बाद 108 एम्बुलेंस को सूचना दी गई। एम्बुलेंस कर्मियों ने नवजात की जांच की और उसे स्वस्थ्य बताया। इसके बाद पुलिस भी मौके पर पहुंची और फिर बच्ची को न्यू सिविल अस्पताल ले जाया गया। यहां उसे आइसीयू वार्ड में रखा गया है। चिकित्सकों के मुताबिक बच्ची स्वस्थ्य है और उसका वजन करीब दो किलो है।


आखिर कौन छोड़ गया मासूम को


नवजात बच्ची को इस तरह लावारीस छोड़ जाने को लेकर कई तरह के सवाल खड़े हो गए है। आखिर नवजात को जन्म देने के बाद क्यों लावारीस छोड़ा गया। कौन थी जो महिला जिसने इस तरह बच्ची को लावारासी छोड़ दिया। पुलिस ने अज्ञात महिला के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

 


पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों का कांग्रेस ने किया विरोध


सूरत. पेट्रोल-डीजल की लगातार बढ़ती कीमतों को लेकर गुरुवार को सूरत शहर कांग्रेस समिति की ओर से विरोध प्रदर्शन किया गया। सूरत शहर कांग्रेस प्रमुख बाबू रायका और नेता विपक्ष प्रफुल्ल तोगडिय़ा की अगुवाई में कार्यकर्ता मानदरवाजा डॉ.बाबा साहेब अंबेडकर की प्रतिमा के पास इकठ्ठे हुए और नारेबाजी कर विरोध जताया।

 


मांगों को लेकर कलक्टर को सौंपा ज्ञापन


सूरत. गुजरात राज्य तलाटी महामंडल ने गुरुवार को कलक्टर को ज्ञापन सौंपा। मंडल पिछले लंबे समय से विभिन्न मांगों को पूरा करने की सरकार से गुहार लगा रहा है, लेकिन उनकी मांगों पर ध्यान नहीं दिया जा रहा है। मंडल ने कलक्टर को ज्ञापन सौंपकर मांग पूरी करने का आग्रह किया है। ज्ञापन पर उचित कार्रवाई नहीं होने पर मंडल ने आंदोलन की चेतावनी दी है।

Ad Block is Banned