सांसद ने रेलमंत्री का आभार व्यक्त किया और मुम्बई-इंदौर दुरंतो का ठहराव रद्द हो गया

- एक दिन पहले ही पश्चिम रेलवे ने बताया था कि सूरत और गोधरा में ठहरेगी दुरंतो एक्सप्रेस, फिर रद्द कर किया

By: Sanjeev Kumar Singh

Published: 17 Mar 2021, 11:07 PM IST

सूरत.

लोकसभा में बजट पर चर्चा के दौरान मंगलवार को सूरत की सांसद दर्शना जरदोश ने शहरवासियों की सहुलियत के लिए डीआरएम ऑफिस, सूरत से महुआ के बीच प्रतिदिन ट्रेन और सम्पर्क क्रांति व दुरंतो एक्सप्रेस को सूरत स्टेशन पर ठहराव देने का मुद्दा उठाया। पश्चिम रेलवे ने सोमवार को मुम्बई-इंदौर दुरंतो एक्सप्रेस के सूरत में ठहराव देने की जानकारी दी थी। फिर अगले ही दिन मंगलवार को रेलवे ने सूरत में ठहराव नहीं होने की बात कहकर मामला पलट दिया।

सूरत सांसद दर्शना जरदोश ने सूरत रेलवे स्टेशन से जुड़ी विभिन्न समस्याओं के लिए संसद में बजट चर्चा के दौरान कुछ महत्वपूर्ण मुद्दों की तरफ रेलमंत्री का ध्यान आकर्षित किया। सांसद दर्शना जरदोश ने मंगलवार को बजट चर्चा के दौरान रेलमंत्री पियूष गोयल को मुम्बई-इंदौर दुरंतो एक्सप्रेस को सूरत में ठहराव देने की मांग स्वीकारने के लिए आभार व्यक्त किया। लेकिन आभार व्यक्त करने के कुछ देर बाद ही पश्चिम रेलवे ने नई जानकारी देते हुए कहा कि मुम्बई-इंदौर दुरंतो एक्सप्रेस का ठहराव सूरत और गोधरा में नहीं दिया गया है। इसके पीछे क्या वजह रही इसके बारे में जानकारी नहीं दी गई है।

इसके अलावा सांसद ने सूरत को डीआरएम ऑफिस देने की मांग भी की। क्योंकि दक्षिण गुजरात के नागरिकों को छोटी समस्या के लिए भी मुम्बई, वडोदरा या अहमदाबाद जाना पड़ता है। भावनगर और उसके आसपास के लोग बड़ी संख्या में सूरत में रहते है और गांव आना-जाना करते रहते थे। सूरत से प्रतिदिन सैकड़ों प्राइवेट बसें भावनगर और सौराष्ट्र के लिए रवाना होती है। यात्रियों की परेशानी को देखते हुए उन्होंने सूरत-महुआ साप्ताहिक ट्रेन को प्रतिदिन चलाने की मांग की है।

रेलवे ने विज्ञप्ति जारी कर सूचना दी थी

इतना ही नहीं सूरत से ट्रेन के रवाना होने का समय रात्रि का करने का भी निवेदन किया है। इसके अलावा सम्पर्क क्रांति और दुरंतो जैसी ट्रेनों को सूरत में ठहराव देने की मांग की है। गौरतलब है कि, सोमवार को पश्चिम रेलवे ने प्रेस रिलिज जारी कर बताया था कि मुम्बई-इंदौर दुरंतो एक्सप्रेस सूरत और गोधरा स्टेशन पर ठहरेगी। लेकिन ताजा निर्णय के बाद यह दोनों ठहराव हटा दिए गए हैं। संसद में आभार व्यक्त करने के कुछ देर बाद ही ठहराव वापस ले लिए जाने से शहरवासी स्तब्ध है। जब भी नियमित ट्रेनें शुरू होंगी तो दुरंतो एक्सप्रेस को ठहराव मिलेगा या नहीं इस बात को लेकर भी संशय है।

Sanjeev Kumar Singh Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned