तिहरे हत्याकांड के अभियुक्त को साथियों ने ही उतारा मौत के घाट

15 दिन के पैरोल पर बाहर आया था ट्रिपल मर्डर का अभियुक्त, सूरत मनपा के नेता विपक्ष पर जताया शक

By: Sandip Kumar N Pateel

Updated: 21 May 2018, 09:53 PM IST

बारडोली/ सूरत. सूरत जिले की कामरेज तहसील में रविवार देर रात 12.30 बजे खूनी खेल खेला गया। ट्रिपल मर्डर के अभियुक्त गौतम गोयाणी उर्फ गोल्डन को उसके साथियों ने नवागाम पुलिस चौकी के पीछे बुलाया और चाकू से ताबड़तोड़ वार कर उसकी हत्या कर दी। गौतम कुछ दिन पहले ही पैरोल पर जेल से बाहर आया था। उस पर सूरत महानगर पालिका के नेता प्रतिपक्ष प्रफुल्ल तोगडिय़ा के भाई भरत तोगडिय़ा समेत तीन लोगों की हत्या का आरोप था।


पुलिस के अनुसार गौतम का साथी किशन खोखर भी ट्रिपल मर्डर का एक अभियुक्त है। वह भी पैरोल पर छूटा था और रविवार को उसके पैरोल का आखिरी दिन था। उसने गौतम को कामरेज चार रास्ते पर मिलने बुलाया था। गौतम अपने दो लोगों के साथ कामरेज चार रास्ता पहुंचा, जहां किशन अपने साथियों के साथ मौजूद था। मामूली चोट के कारण किशन के हाथ से खून बह रहा था। यह देखकर गौतम ने अपने साथ आए दो लोगों को पट्टी और पानी लेने भेज दिया। प्लान बनाकर आए किशन खोखर और उसके दो दोस्तों ने गौतम गोयाणी पर चाकू से हमला कर दिया। पानी और पट्टी लेकर पहुंचे गौतम के दोस्तों को देखते ही किशन समेत तीनों हमलावर मौके से भाग निकले। गौतम को लहूलुहान हालत में अस्पताल ले जाया गया, जहां उसकी मौत हो गई। घटना की जानकारी मिलने पर सूरत जिला पुलिस मौके पर पहुंची। मृतक की बहन कोमल गोयाणी ने किशन रमेश खोखर (निवासी प्रभुकृपा सोसायटी, कापोद्रा, सूरत), वेजा माडम और एक अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कराया। इस हत्या में सूरत महानगर पालिका के नेता विपक्ष प्रफुल्ल उर्फ पपन तोगडिय़ा और खुशबू मोदी के भी शामिल होने की शंका व्यक्त की गई है। कोमल गोयाणी ने आरोप लगाया कि यह हत्या तिहरे हत्याकांड का बदला लेने के लिए की गई।


शातिर अपराधी था गोल्डन


गौतम उर्फ गोल्डन का इतिहास अपराधों से भरा था। उसने किशन खोखर और अन्य साथियों के साथ मिलकर 14 मई, 2016 को सूरत महानगर के नेता विपक्ष प्रफुल तोगडिय़ा के भाई भरत तोगडिय़ा, बाबू हिराणी और अशोक पटेल की हत्या कर दी थी। गौतम गोल्डन भूपत वसाराम आहिर गैंग के लिए भी काम करता था। 2 जुलाई, 2014 को वराछा की वर्षा सोसायटी के पास गौतम ने भरत जोशी और भरत वघासिया पर चाकू से हमला किया था। भरत जोशी की मौत हो गई थी। इससे पहले गौतम ने वराछा के मानगढ़ चौक के पास एक दुकानदार पर हमला किया था।


दोनों साथियों के जाने के बाद किया हमला


गौतम के साथ गए रामा भरवाड़ ने बताया कि मैं गोल्डन के साथ कामरेज गया था, जहां किशन खोखर वेजा माडम और एक अन्य व्यक्ति के साथ खड़ा था। किशन के घायल होने के कारण गौतम ने हमे बैंडेज और पानी लेने भेज दिया। हम पानी लेकर आए, तब किशन और उसके साथी गौतम पर चाकू से हमला कर रहे थे। हमें देख तीनों मौके से भाग निकले।

 

पिता की जेल में हो चुकी है मौत


तिहरे हत्याकांड के आरोप में पुलिस ने गौतम गोयाणी, उसकी बहन कोमल गोयाणी और पिता गणेश गोयाणी को गिरफ्तार किया था। न्यायिक हिरासत में भेजने के बाद अक्टूबर 2017 में गौतम के पिता गणेश गोयाणी की सीने में दर्द की शिकायत के बाद मौत हो गई थी।

Sandip Kumar N Pateel Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned