नानीबाई की मायरो में उमड़े श्रद्धालु

नानीबाई की मायरो में उमड़े श्रद्धालु

Dinesh Bhardwaj | Publish: Oct, 13 2018 08:38:14 PM (IST) Surat, Gujarat, India

श्रीसुरभि शक्ति आराधना महोत्सव


सूरत. नवरात्र पर्व के उपलक्ष में पथमेड़ा गोधाम महातीर्थ सूरत इकाई की ओर से सिटीलाइट में अणुव्रतद्वार के पास आयोजित श्रीसुरभि शक्ति आराधना महोत्सव में शनिवार रात नानीबाई को मायरो सुनने के लिए बड़ी संख्या में श्रद्धालु पहुंचे। इससे पूर्व सुबह यज्ञधेनु पूजा, श्रीमद्देवी भागवत कथा, गो सहस्रार्चन समेत अन्य आयोजन स्वामी दत्तशरणानंद महाराज, त्र्यंबकेश्वर चैतन्य महाराज समेत अन्य कई संतवृंद के सानिध्य में किया गया।
देर शाम आयोजित नानीबाई की मायरो में व्यासपीठ से राधाकृष्ण महाराज ने भक्त और भगवान के बीच गहरे संबंध को विस्तार देते हुए भक्त नरसी मेहता के वृतांत पंडाल में मौजूद श्रद्धालुओं को सुनाए। इससे पूर्व श्रीमद्देवी भागवत कथा में त्र्यंबकेश्वर चैतन्य महाराज ने बताया कि आचार्य द्रोणाचार्य की मिट्टी की मूर्ति बनाकर जितना एकलव्य ने पाया उतना तो पांडवों ने गुरु के पास रहकर भी नहीं पाया। गुरु द्रोणाचार्य की कृपा से एकलव्य अमर हो गए और गुरुभक्ति के रूप में जीवित है। कथा में महाराज ने धृतराष्ट्र, गांधारी, महात्मा विदुर, माता कुंती, कौरव-पांडव, राजा परीक्षित, राजा जन्मेजय, तक्षक नाग, कश्यप ऋषि आदि की कथा भी विस्तार से सुनाई। महाराज ने कथा में बताया कि भगवती जगदंबा से बड़ी कृपा संसार में किसी के पास नहीं। मणिदीप में विराजमान मां भगवती के पास जाने लिए ब्रह्मा, विष्णु, महेश को नारी का रूप धारण करना पड़ा। मां जगदंबा स्त्री-पुरुष से परे हैं। साक्षात भगवती स्वरुपा गो माता के लिए किया गया कार्य कभी निष्फल नहीं जाता है। जिस पर गो माता का अनुग्रह नहीं होता वह दान, धर्म भी नहीं कर सकता। किसी भी निमित्त अपने आपको गो माता से जोड़ लिया जाए तो जीवन सुरक्षित हो जाएगा। मीडिया प्रभारी सज्जन महर्षि ने बताया कि कथा के दौरान बीच-बीच में जय गोमाता-जय गोपाल की धुन भी गूंजती रही।


गो पूजन में श्रद्धालु शामिल


श्रीसुरभि शक्ति आराधना महोत्सव में शनिवार शाम 52 गोमाता का गो मनोरथियों ने गो पूजन सहस्रार्चन के आयोजन में भाग लिया। इस दौरान मुख्य यजमान राकेश गजानंद कंसल समेत 108 जोड़ों ने गो पूजन में भाग लिया। इसमें गोमाता के अंगों में विराजित विभिन्न देवी-देवताओं का पूजन कर गो ग्रास के रूप में आहुति दी गई।

Ad Block is Banned