NARATRI: घर-घर के घट-घट में विराजी मां भगवती

मंदिरों में कोविड-19 की गाइडलाइन से श्रद्धालुओं ने किए दर्शन, अन्य धार्मिक आयोजन भी हुए शुरू

By: Dinesh Bhardwaj

Published: 17 Oct 2020, 09:08 PM IST

सूरत. जगज्जनी मां भगवती की विशेष आराधना का दौर नवरात्र पर्व के उपलक्ष में आश्विन शुक्ल प्रतिपदा शनिवार से शुरू हो गया और शक्ति उपासना के लिए श्रद्धालुओं ने घर-घर में मातारानी के कृपारूपी घट की विधिविधान से स्थापना की है। शारदीय नवरात्र पर्व के प्रथम दिन अंबिकानिकेतन में अम्बाजी मंदिर, अम्बाजी रोड पर जुना अम्बाजी मंदिर, अश्विनीकुमार रोड पर उमिया माता मंदिर समेत अन्य देवी मंदिरों में श्रद्धालुओं ने कोविड-19 की गाइडलाइन मुताबिक मातारानी के दर्शन किए।
कोरोना महामारी के बीच मां भगवती के नौ दिवसीय आराधना पर्व नवरात्र की शुरुआत आश्विन शुक्ल प्रतिपदा शनिवार से हो गई। 25 अक्टूबर तक आयोजित नवरात्र पर्व के दौरान इस बार हर वर्ष के समान गरबा आयोजन, शतचंडी महायज्ञ, रामलीला महोत्सव, अखण्ड रामायण पाठ समेत अन्य कई धार्मिक कार्यक्रमों की धूमधाम देखने को नहीं मिल रही है। मां भगवती के बड़े आराधना नवरात्र पर्व की शुरुआत पर कोरोना महामारी से दूर श्रद्धालुओं ने घर-घर में मातारानी के कृपारूपी घट की विधिविधान से स्थापना की। इस दौरान उन्होंने मां अम्बे की आरती, भोग, दर्शन समेत अन्य आयोजन भी घर में सपरिवार किए।नवरात्र पर्व के दौरान इस बार बगैर तिथि क्षय के नौ दिवस तक मातारानी के विभिन्न नौ स्वरूपों की आराधना की जाएगी।


श्रेष्ठ मुहूर्त में की गई घट स्थापना


आश्विन शुक्ल प्रतिपदा शनिवार को नवरात्र पर्व के प्रथम दिन तुला लग्न में श्रद्धालुओं ने घरों में घट स्थापना सुबह 6 बजकर 35 मिनट से 8 बजकर 50 मिनट के मध्य में विधिविधान से की। इसके बाद चर-लाभ व अमृत के चौघडि़ए में दोपहर 12 बजकर 15 मिनट से शाम 4 बजकर 30 मिनट तक घट स्थापना हुई। वहीं, श्रेष्ठ अभिजित मुहूर्त दोपहर 11 बजकर 54 मिनट से 12 बजकर 30 मिनट के मध्य में भी श्रद्धालुओं ने घरों में विधिविधान से घट स्थापना की है।


मंदिर के बाहर लगी स्क्रीन पर दर्शन


पार्ले पोइंट में अंबिकानिकेतन स्थित अम्बाजी मंदिर में नवरात्र पर्व के अवसर पर दर्शनार्थियों के लिए मंदिर प्रबंधन कमेटी ने मां अम्बे के दर्शन की विशेष व्यवस्था प्रोजेक्टर के माध्यम से की है। शनिवार को अंबिकानिकेतन पहुंचे श्रद्धालुओं ने मंदिर प्रांगण के बाहर लगी स्क्रीन पर मां अम्बे के दर्शन किए। इसी तरह से अम्बाजी रोड स्थित जुना अम्बाजी मंदिर व अश्विनीकुमार रोड पर उमिया माता मंदिर में भी कोविड-19 की गाइडलाइन के मुताबिक दर्शन व्यवस्था की गई है।


शतचंडी महायज्ञ में गूंजे मंत्र, दी आहुतियां


उधना में खरवरनगर स्थित श्रीदक्षिणाभिमुखी शनि-हनुमान मंदिर आश्रम परिसर में नवरात्र पर्व के उपलक्ष में शनिवार से नौ दिवसीय पंचकुंडीय शतचंडी बगलामुखी महाविद्या महायज्ञ की शुरुआत स्वामी विजयानंद महाराज के सानिध्य में की गई। इस दौरान विद्वान पंडि़तों के मंत्रोच्चार पर यजमानों ने यज्ञवेदी में आहुतियां दी। वहीं, सिटीलाइट के वैष्णोद्वार में भी मां वैष्णोदेवी की आराधिका माताजी के सानिध्य में पहले दिन शैलपुत्री स्वरूप की विधिविधान से पूजा-आराधना की गई।


सवा लाख जीण चालीसा महानुष्ठान


नवरात्र पर्व के उपलक्ष में श्रीअखिल भारतीय जीण माता सेवा संघ की ओर से सवा लाख जीण चालीसा महानुष्ठान का ऑनलाइन आयोजन किया है। संघ के संस्थापक शरद खंडेलवाल ने बताया कि महानुष्ठान 25 अक्टूबर तक चलेगा और इसमें शामिल होने वाले श्रद्धालुओं को गुगल फार्म उपलब्ध करवाया है। इसमें प्रतिदिन जीण चालीसा के 15 या अधिक पाठ करने वालों को जीण मैया ग्रुप तथा नवरात्र पर्व के नौ दिन में कभी भी 21 या अधिक पाठ करने वालों को जयंती मैया ग्रुप में जोड़ा गया है। दोनों ग्रुप में सैकड़ों श्रद्धालु जुड़े हैं।

Show More
Dinesh Bhardwaj Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned