NAVRATRI: भक्तिधाम में जीर्णोद्धार, कन्या पूजन वैष्णोद्वार

कोविड-19 की गाइडलाइन के बीच जारी है नवधा भक्ति से शक्ति पर्व की उपासना

By: Dinesh Bhardwaj

Published: 18 Oct 2020, 09:08 PM IST

सूरत. गुजरात का लोकपर्व नवरात्रि निश्चय ही कोरोना महामारी की वजह से हर वर्ष की अपेक्षा इस बार बदला-बदला सा लग रहा है, लेकिन श्रद्धालुओं में शक्ति पर्व की उपासना में कुछ खास कमी नहीं दिख रही है। हालांकि उनकी भक्ति में कोविड-19 की गाइडलाइन के अनुशासित नियमों की झलक भी देखने को मिल रही है।
अंबिकानिकेतन में सूरत की अधिष्ठात्री अंबाजी मंदिर की स्थापक भारती मैया की प्रेरणा से 35 वर्ष पहले पूर्व दिशा में स्वामी सुरेशानंद महाराज के सानिध्य में भक्तिधाम मंदिर की नींव रखी गई और अब यहां पर श्रद्धालुओं के सहयोग से कोरोना महामारी के बीच जीर्णोद्धार कार्य जारी है। इस संबंध में भक्तिधाम सेवा समिति के चेतन अग्रवाल, टीकम असावा, यशवंतसिंह आदि ने बताया कि नवरात्र पर्व पर अष्टभुजा मां भगवती की आराधना में कोरोना भले ही आड़े आ रहा है, लेकिन श्रद्धालुओं के श्रद्धाभाव में कहीं कोई कमी नही है। हाल में श्रद्धालु सामाजिक दूरी व मास्क के साथ मातारानी के दर्शन कर रहे हैं तो मंदिर प्रांगण में जारी मुख्यद्वार, गुरुस्थान व माता के भवन के जीर्णोद्धार कार्य में भी सहभागी बन रहे हैं। गौरतलब है कि परवत पाटिया क्षेत्र में स्थित भक्तिधाम मंदिर के आसपास प्रवासी राजस्थानियों की बड़ी तादाद होने से यह मंदिर उनके बीच गहरी आस्था का केंद्र है और भक्तिधाम सेवा समिति में भी वे बड़ी संख्या में जुड़े हैं।
उधर, अंबिकानिकेतन स्थित अम्बाजी मंदिर में नवरात्र पर्व के दूसरे दिन रविवार को भी श्रद्धालुओं ने प्रोजेक्टर से मंदिर के बाहर ही स्क्रीन पर मातारानी के दर्शन किए। डिंडोली के उमिया माता मंदिर में नवरात्र पर्व पर रात्रि में माता की आराधना में गरबा आयोजन स्थगित रखे गए हैं, लेकिन आरती का आयोजन सोशल डिस्टेंस व मास्क के साथ किया गया।

भक्तों को दर्शन दे गई रे...


नवरात्र पर्व के दूसरे दिन मां भगवती के ब्रह्मचारिणी स्वरूप की पूजा-आराधना सिटीलाइट के वैष्णोद्वार में छोटी-छोटी पांच कन्याओं के रूप में की गई। इस दौरान दोपहर में माताजी के सानिध्य में मां वैष्णोदेवी की विधिविधान से पूजा-अर्चना के बाद अपराह्न आरती की गई। इसके बाद पांच छोटी-छोटी कन्याओं का पूजन उनके चरण धोकर चुंदड़ी ओढ़ाकर किया गया। उन्हें हलवा-पुरी का भोग परोसने के बाद उपहार भी इस अवसर पर दिए गए।

NAVRATRI: भक्तिधाम में जीर्णोद्धार,  कन्या पूजन वैष्णोद्वार
Show More
Dinesh Bhardwaj Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned