वायु चक्रवात से निपटने के लिए एनडीआरएफ ने संभाला मोर्चा

वायु चक्रवात से निपटने के लिए एनडीआरएफ ने संभाला मोर्चा

Sunil Mishra | Updated: 12 Jun 2019, 06:52:27 PM (IST) Surat, Surat, Gujarat, India

आपदा को लेकर दक्षिण गुजरात में हाईअलर्ट
कई जगहों पर तेज हवा के साथ हल्की बारिश, पेड़ भी गिरे


सूरत. अरब सागर में उठ रहे समुद्री चक्रवात वायु को लेकर सूरत सहित पूरे दक्षिण गुजरात में प्रशासन हाईअलर्ट पर है। दहेज बंदरगाह पर २ नंबर का सिग्नल लगाया गया है। मछुआरों को समुद्र में नहीं जाने के लिए आगाह किया गया है। वलसाड, नवसारी जिला प्रशासन ने भी समुद्र किनारे के स्थानों पर समुद्री तूफान से होने वाले नुकसान को देखते हुए अधिकारियों को अलर्ट पर रखा है। सूरत में समुद्र किनारे बसे गांवों में लोगों को चेतावनी देने के साथ ही डुमस समुद्र तट को14 जून तक सैलानियों के लिए बंद कर दिया गया है। कुछ जगहों पर तेज और हल्की बारिश भी हुई है।
समुद्री चक्रवात वायु को देखते हुए सूरत जिला कलक्टर और सूरत महानगर पालिका प्रशासन ने बचाव और राहत के लिए रेस्क्यू टीम को अलर्ट पर रखा है।

 

patrika

दक्षिण गुजरात में असर दिखा सकता है वायु चक्रवात

माना जा रहा है कि समुद्री चक्रवात वायु दक्षिण गुजरात में असर दिखा सकता है। चक्रवात के टकराने के दौरान हवा की गति 110 से 130 किमी तक रह सकती है। जिला प्रशासन ने सैलानियों के डुमस और सुवाली समुद्र किनारे जाने पर १४ जून तक के लिए प्रतिबंध लगा दिया है। इसके साथ ही समुद्र किनारे बसे डुमस समेत चौयार्सी, मजूरा और ओलपाड़ के 31 गांवों में लोगों को एहतियात बरतने की हिदायत दी है।
दमण-दीव में समुद्री चक्रवात एवं तेज हवाओं को देखते हुए तीन दिन तक स्कूलों को बंद रखा गया है। दीव जिला कलक्टर हेमंत कुमार ने बताया है कि दक्षिण समुद्र विस्तार लक्षद्वीप से 760 किलोमीटर के क्षेत्र में तेज हवा और चक्रवात का असर देखा जा सकता है। समुद्र किनारे रह रहे मछुआरों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है। आपदा से निपटने के लिए एनडीआरएफ की टीम भी बुलाई गई है। सिलवासा में भी प्रशासन ने चक्रवात से निपटने के उपाय किए हैं। वलसाड कलक्टर सीआर खरसाण ने समुद्र किनारे के गांवों में रहने वालों को सावधान रहने की ताकीद करते हुए किनारे पर पुलिस दल भी तैनात किया है। खरसाण ने तीथल समुद्र किनारे का जायजा लिया और जरूरी निर्देश दिए। नवसारी कलक्टर ने भी ऐहतियात बरतते हुए मछुआरों को समुद्र में नहीं जाने की चेतावनी दी और किनारे बसे लोगों को सुरक्षित स्थानों पर भेजा गया है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned