नई उडऩ परी सरिता ने देश के लिए जीता स्वर्ण पदक

नई उडऩ परी सरिता ने देश के लिए जीता स्वर्ण पदक

Sunil Mishra | Publish: Feb, 15 2018 06:08:41 PM (IST) Surat, Gujarat, India

एशियन गेम्स टेस्ट इवेंट की ४०० मीटर बाधा दौड़ में फहराया तिरंगा
डांग जिले के कराड़ी आम्बा गांव के श्रमिक परिवार की है बेटी


वांसदा (डांग). इंडोनेशिया की राजधानी जकार्ता में चल रहे आठवें एशियन गेम्स टेस्ट इवेंट प्रतियोगिता में भारत की नई उडऩपरी बनी गुजरात के डांग जिले की धावक कुमारी सरिता गायकवाड़ ने 400 मीटर बाधा दौड़ में स्वर्ण पदक जीता है।

35 देशों की महिला धावकों को हराते हुए 59.08 सेकेण्ड का समय लेकर स्वर्ण पदक जीता

सरिता ने 35 देशों की महिला धावकों को हराते हुए 59.08 सेकेण्ड का समय लेकर स्वर्ण पदक जीता। सरिता ने यह पदक को देश को अर्पित किया है। उसने इस रिले दौड़ में खुद के श्रेष्ठ समय का रिकॉर्ड भी बनाया है। किसी भी अंतरराष्ट्रीय स्पर्धा में उसका यह पहला स्वर्ण पदक है। देश का गौरव बढ़ाने वाली अंतरराष्ट्रीय धावक सरिता को पीटी ऊषा का नया अवतार कहा जा रहा है।

अंतरराष्ट्रीय कोच अजिमोन से प्रशिक्षण लेकर सरिता इंडोनेशिया पहुंची

डांग के सीमावर्ती गांव कराड़ी आम्बा के श्रमिक परिवार की बेटी सरिता को उत्कृष्ट प्रदर्शन के आधार पर 8वीं एशियन गेम्स टेस्ट इवेंट के लिए चयन हुआ था। इसके बाद एथलेटिक्स फेडरेशन ऑफ इंडिया की ओर से केरल में छह माह का प्रशिक्षण दिया गया। फिर अंतरराष्ट्रीय कोच अजिमोन से प्रशिक्षण लेकर सरिता इंडोनेशिया पहुंची। यहां 400 मीटर बाधा दौड़ तथा400 गुणा 4रिले दौड़ के लिए चयन हुआ।

कौन है सरिता गायकवाड़
डांग जिले की बेटी सरिता गायकवाड़ नवसारी जिले के चिखली में आट्र्स एण्ड कॉमर्स कॉलेज में प्रथम वर्ष की छात्रा है। यह कॉलेज सूरत के वीर नर्मद साउथ गुजरात यूनिवर्सिटी से संबद्ध है।

ऑल इंडिया इंटर यूनिवर्सिटी एथलेटिक्स चैम्पियनशिप में दौड़ जीती

सरिता ने गम माह 14 जनवरी को कोयम्बटूर में आयोजित ऑल इंडिया इंटर यूनिवर्सिटी एथलेटिक्स चैम्पियनशिप में दौड़ जीती थी। सरिता ने तीन साल पहले ही एथलेटिक्स में भाग लेना शुरू किया है। इससे पहले वह खो-खो की खिलाड़ी थी।

खेल महोत्सव के दौरान भी कई पदक जीते

गुजरात में आयोजित खेल महोत्सव के दौरान भी उसने कई पदक जीते थे।


Ad Block is Banned