एक लाखवें एकल विद्यालय का उद्घाटन कल

सोनगढ़ के निकट आयोजित कार्यक्रम में प्रधानमंत्री वीडिय़ो कांफ्रेंस से करेंगे संबोधन

सूरत. देश के वनवासी अंचल में शिक्षा की अलख जगाने के लिए सक्रिय वनबंधु परिषद अपने एकल अभियान के तहत एक लाखवें एकल विद्यालय का उद्घाटन शुक्रवार को सोनगढ़ में सिंगपुर रोड पर उकाई सुगर फेक्ट्री मैदान में आयोजित समारोह में करेगा। इस मौके पर मुख्यमंत्री विजय रुपाणी समेत अन्य कई मेहमान मौजूद रहेंगे वहीं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वीडिय़ो कांफ्रेंस के जरिए जनसभा को संबोधित करेंगे। इस आशय की जानकारी बुधवार सुबह सिटीलाइट में महाराजा अग्रसेन भवन के बोर्डरूम में आयोजित पत्रकार वार्ता में दी गई।
वार्ता में एकल अभियान की केंद्रीय कार्यकारिणी समिति के अध्यक्ष बजरंगलाल बागड़ा ने बताया कि अभियान का एक लाखवां एकल विद्यालय गुजरात के पंचमहाल जिले के कासुदी गांव में खोला जा रहा है। एक शिक्षक एक विद्यालय योजना के अनूठे मॉडल के माध्यम से वनवासी अंचल में शिक्षा देने का कार्य संगठन देश के 24 प्रांतों में बदस्तूर कर रहा है। शुक्रवार को सोनगढ़ में आयोजित समारोह के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वीडिय़ो कांफ्रेंस से जनसभा को संबोधित करेंगे वहीं, समारोह में मुख्यमंत्री विजय रुपाणी, केबिनेट मंत्री गणपत वसावा समेत अन्य मंत्रीगण मौजूद रहेंगे। समारोह के दौरान एकल अभियान के अन्तर्गत ही वनवासी ग्रामीणों को कम्प्यूटर शिक्षा देने के लिए देश की 24वीं और गुजरात में दूसरी मोबाइल कम्प्यूटर वैन का उद्घाटन भी मुख्यमंत्री के हाथों सम्पन्न होगा। वनवासी अंचल में शिक्षा के साथ-साथ धर्म जागरण के प्रति भी वनबंधु परिषद व सहयोगी श्रीहरि सत्संग समिति सक्रिय है और सूरत चैप्टर द्वारा प्रदान 44वें श्रीहरि मंदिर रथ का भी लोकार्पण समारोह में किया जाएगा। वार्ता के दौरान श्याम गर्ग, विनोद अग्रवाल, श्रीनारायण पेड़ीवाल, रतनलाल दारुका, बाबुलाल मित्तल, महेश मित्तल आदि पदाधिकारी मौजूद थे।


मात्र छह साल में ही 48 हजार


2022 में हीरक जयंती मनाने वाले वनबंधु परिषद के एकल अभियान के तहत 2014 से पहले तक एकल विद्यालयों की संख्या देशभर में 52 हजार थी जो अब बढक़र एक लाख हो गई है। बीते छह वर्ष में 48 हजार एकल विद्यालय खोले गए है। इसमें सर्वाधिक एकल विद्यालय उत्तरप्रदेश में 18 हजार 863 है वहीं सबसे कम केरल में 300 है। इसके अलावा गुजरात में 2790 एकल विद्यालय संचालित है।

Dinesh Bhardwaj
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned