SURAT NEWS : बुलेट ट्रेन के लिए जमीन मापने का विरोध

SURAT NEWS : बुलेट ट्रेन के लिए जमीन मापने का विरोध

Sunil Mishra | Updated: 11 Jul 2019, 09:22:44 PM (IST) Surat, Surat, Gujarat, India

पाटी गांव में सैटेलाइट माप करने आई टीम को लौटना पड़ा

नवसारी जिले के 28 गांवों से बुलेट ट्रेन गुजरेगी

नवसारी. गणदेवी के पाटी गांव में दिल्ली से जमीन की सैटेलाइट माप करने पहुंची टीम को किसानों के विरोध के कारण लौटना पड़ा। नवसारी जिले के 28 गांवों से बुलेट ट्रेन गुजरेगी। इसके लिए 23 गांवों में प्रशासन ने पीले खंभे भी लगाने के बाद सैटेलाइट से भी जमीन की माप पूरा कर लिया है। वहीं, आमडपोर, पाटी, परथाण, वेजलपोर और केसली गांव में पीले खंभे लगा दिए थे,लेकिन किसानों के उग्र विरोध के बाद सेटेलाइट से जमीन मापने का काम नहीं हो पाया था। गुरुवार को फिर से बुलेट ट्रेन से जुड़ी दिल्ली की टीम गणदेवी के पाटी गांव पहुंची। यहां चार कर्मचारियों ने जमीन मापने का काम शुरू कर दिया और पाटी की निशाल फलिया प्राथमिक स्कूल से करीब 60 मीटर दूरी पर लगाए पीले खंभे का निरीक्षण चल रहा था। यहां से स्थान निश्चित कर जमीन की माप करने से पहले ही वहां भीड़ जमा हो गई। असरग्रस्त होने वाले किसानों ने टीम को घेरा और उनसे किए जा रहे काम की जानकारी मांगी तो उन्हें बताया गया है कि अहमदाबाद से वापी तक प्रोजेक्ट रूट पर लगे पीले खंभों की रिचेकिंग हो रही है। उनके सामने किसानों ने अपनी पुरानी मांग को दोहराया। बुलेट ट्रेन योजना के असरग्रस्त किसानों ने मुआवजे की ठोस नीति, विस्थापितों का पुनर्वसन और केसली पाटी गांव के समीप प्रस्तावित बुलेट ट्रेन के स्टेशन का स्थानांतरण करने की मांग की।

 

 

 

patrika

डेढ़ घंटे तक किसानों को समझाने की कोशिश की

किसानों की किसी बात का जबाव टीम के सदस्य नहीं दे पाए। उन्होंने करीब डेढ़ घंटे तक किसानों को समझाने की कोशिश की और अंत में काम छोडक़र वापस लौट गए।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned