कैशलेस में लोग नहीं ले रहे दिलचस्पी

।देश में नोटबंदी के बाद भले ही कैशलेस प्रणाली के लिए अभियान चलाए गए हों, लेकिन जिले में अभी भी लोग कैशलेस लेनदेन में दिलचस्पी नहीं ले रहे हैं। नतीजन आ

By: मुकेश शर्मा

Published: 12 Nov 2017, 09:32 PM IST

भरुच।देश में नोटबंदी के बाद भले ही कैशलेस प्रणाली के लिए अभियान चलाए गए हों, लेकिन जिले में अभी भी लोग कैशलेस लेनदेन में दिलचस्पी नहीं ले रहे हैं। नतीजन आज भी अधिकांश लोग कैश लेन-देन में ही रुचि दिखा रहे हैं। वर्तमान में भरुच जिले में नाम मात्र लोग ही कैशलेस ट्रांजेक्शन कर रहे हैं। जागरुकता के अभाव से ही लोग कैशलेस प्रणाली को नहीं अपना रहे हैं। राजस्थान पत्रिका ने कैशलेस प्रणाली के बारे में लोगों की राय जानने की कोशिश की। पेश है लोगों से बातचीत के अंश।

अंकलेश्वर निवासी अशोक झा ने कहा कि पहले की तुलना में अब कैशलेस ट्रांजेक्शन की ओर लोगों का रुझान बढ़ रहा है। लेकिन यह उतनी तेजी से नहीं बढ़ रहा है, जितना से बढऩा चाहिए था। कैशलेस ट्रांजेक्शन से काफी लाभ है। इसको लेकर लोगों में जागरुकता लाने की आवश्यकता है। वहीं शहर के एशियन पेंट चौकड़ी निवासी राजीव कुमार सिंह और पप्पू सिंह ने कहा कि नोटबंदी के बाद कुछ दिनों तक कैश से संबंधित दिक्कतें आई थी। लेकिन अब एटीएम व बैंको ंमें पर्याप्त कै श मिल रहा है।


जागरुकता के अभाव से कैशलेस प्रणाली का सभी लोग लाभ नहीं उठा पा रहे हैं। भरुच शहर के आश्रय सोसायटी में रहने वाले वी.के. श्रीवास्तव ने कहा कि अधिकांश विभागों में अभी तक यह व्यवस्था शुरू नही हो पाई हैं। सभी विभागों में सुविधा शुरू होनी चाहिए ताकि लोगोंं को इसका लाभ मिल सके। उससे भी जरूरी यह है कि लोगों को कैशलेस प्रणाली के बारे में जागरुक किया जाए। शहर के पावनपुरी सोसायटी निवासी अजीत सिंह ने कहा कि सभी लोगों को कैशलस प्रणाली अपनाना चाहिए। यह काफी सुरक्षित है। किसी भी व्यवस्था में बदलाव लाने के लिए समय लगता है। लेकिन बदलाव के लिए उच्चस्तरीय प्रयास किए जाने चाहिए, तभी इस प्रणाली को लोग अपना सकेंगे।

भरुच के नंदेलाव मार्ग निवासी रोहित भाई जाधव ने कहा कि नोटबंदी के बाद सरकार द्वारा कैशलेस ट्रांजेक्शन के लिए लोगों में जागरुकता लाने के लिए अभियान चलाया गया था, जो कि बेहतर प्रयास था। लेकिन अभी भी अभियान को जारी रखने की जरूरत है। आज भी लोग कैशलेस के स्थान पर कैश में ही विश्वास कर रहे हैं। दहेज बाइपास स्थित यमुना अपार्टमेंट निवासी राजेन्द्र राठी ने कहा कि कैशलस प्रणाली का उपयोग वही लोग कर रहे हैं जो इस बारे में जागरुक हैं। ज्यादातर लोग ऐसे हैं जिन्हें इस बारे में पूरी जानकारी नहीं है। इस दिशा में प्रभावी तरीके से जागरुकता अभियान चलाने की आवश्यकता है।

मुकेश शर्मा Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned