भरुच.

नर्मदा नदी के पानी में क्लोराइड की मात्रा बढऩे से दहेज की कंपनियों को जीआइडीसी से की जा रही जलापूर्ति में २० प्रतिशत तक कमी की गई है। पानी कटौती से कंपनियों को प्रोडेक्शन लॉस का सामना करना पड़ रहा है। इससे जीआइडीसी की कंपनियों को प्रतिदिन करोड़ों रुपए का नुकसान उठाना पड़ रहा है। क्लोराइड की मात्रा 100 पीपीएम से भी ज्यादा हो जाने से अंगारेश्वर और नांद गांव में स्थित पंपिंग स्टेशन को रविवार से बंद कर दिया गया है। दहेज इंडस्ट्रियल एसोसिएशन की ओर से नर्मदा बांध से प्रतिदिन १००० क्यूसेक पानी छोडऩे की मांग की गई थी, लेकिन बांध से ६०० क्यूसेक ही पानी छोड़ा जा रहा है।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned