सूरत.

दशा माता का व्रत-पूजन पूर्ण होने के साथ ही शहर के प्रवासी राजस्थानी बहुल इलाकों में सोलह दिवसीय गणगौर पर्व का उत्साह और बढ़ गया। जगह-जगह आयोजित बिंदोळे में युवतियों और महिलाओं ने नाच-गाकर तथा लोकगीत गाकर ईसर-गौर को मनाया। गुड़ला सवारी के आयोजन भी दिखने लगे है।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned