सूरत.

जहांगीरपुरा में राधा-दामोदर इस्कॉन मंदिर की ओर से शनिवार को वैशाख पूर्णिमा पर राधा-दामोदर भगवान को नौका विहार कराया गया। इससे पहले सुबह मंदिर प्रांगण में नृसिंह जयंती भी मनाई गई। मंदिर की प्रबंधन कमेटी ने बताया कि वैशाख शुक्ल तृतीया अर्थात आखा तीज से भगवान को गर्मी के प्रकोप से बचाने के लिए प्रतिदिन चंदन का लेप लगाया जाता है। ग्यारह दिन चंदन के लेप और विशेष श्रंृगार के बाद वैशाख पूर्णिमा को नौका विहार के आयोजन की मान्यता है। उसके अनुरूप शनिवार को शाम साढ़े चार बजे श्रद्धालु हरेकृष्ण महामंत्र की धुन के साथ भगवान की प्रतिमा मंदिर प्रांगण से तापी नदी के किनारे ले गए और हरि बोल के जयकारों के साथ भगवान को नौका विहार कराया गया। इस दौरान बड़ी संख्या में श्रद्धालु मौजूद थे। नृसिंह जयंती के उपलक्ष में तड़के साढ़े चार बजे मंगला दर्शन, श्रृंगार और नृसिंह प्राकट्य कथा के आयोजन के अलावा सुबह नौ बजे कीर्तन हुआ।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned