मार्केट परिसर में मौका-मुआयना करने पहुंची पुलिस

पुलिस आयुक्त को सुबह सोसायटी ने बताया था बिल्डर की गतिविधियों से कपड़ा व्यापारियों में भय की आशंका

सूरत. कपड़ा बाजार के रघुकुल टैक्सटाइल मार्केट में सोमवार शाम सलाबतपुरा पुलिस पहुंची और उसने गत दिनों की सभी घटनाओं का मौका-मुआयना किया। इस दौरान मौजूद रहे मार्केट के कपड़ा व्यापारियों की सोसायटी के प्रतिनिधियों ने पुलिस को ताले काटने समेत पुरानी सभी घटनाओं के बारे में विस्तार से जानकारी दी।
कई दिनों से रघुकुल टैक्सटाइल मार्केट में बिल्डर और कपड़ा व्यापारियों के बीच जारी विवाद के दौरान गत सप्ताह मार्केट परिसर में कैंटीन समेत अन्य जगहों पर ताले काटने व हो-हल्ला मचाने से कपड़ा व्यापारियों में भय का माहौल बन गया था। सोसायटी के मुताबिक इस दौरान बिल्डर गोपाल डोकानिया समेत अन्य कई लोग मौजूद थे। इस घटना के बाद से ही सतर्क हुई सोसायटी के पदाधिकारी कपड़ा व्यापारी सोमवार सुबह शहर पुलिस आयुक्त राजेंद्र ब्रह्मभट्ट से मिलने पहुंचे और उन्हें पूरा घटनाक्रम सुनाया और बाद में सोसायटी पदाधिकारी शहर पुलिस उपायुक्त चिंतन तैरेया से भी मिले और उन्होंने सलाबतपुरा थाना प्रभारी से मामले पर बातचीत की। इसके बाद शाम को सोसायटी के पदाधिकारी कपड़ा व्यापारी सलाबतपुरा पुलिस थाने पहुंचे और थाना प्रभारी को रघुकुल मार्केट प्रकरण की जानकारी दी। इसके बाद थाना प्रभारी व अन्य पुलिसकर्मी रघुकुल मार्केट पहुंचे और सभी पुराने घटनाक्रम के स्थलों का मौका-मुआयना किए।


पुराने मैनेजर को भी बुलाया


मार्केट पहुंची पुलिस ने रघुकुल मार्केट के पीछे पार्किंग परिसर के अलावा कुछ दिन पहले ही कैंटीन व अन्य जगहों के ताले काटने वाले मामले का भी निरीक्षण किया। सोसायटी ने बताया कि इस दौरान बिल्डर की ओर से नियुक्त मार्केट के पुराने मैनेजर व सोसायटी के प्रमुख सरोज तिवारी को भी बुलाया गया लेकिन, वो नहीं आया। सोसायटी ने पुलिस को बताया कि तिवारी ने लिखित इस्तीफा देने के बाद भी सोसायटी प्रमुख के तौर पर मार्केट में दुकानों के दस्तावेज बनवाकर मार्केट सोसायटी व कपड़ा व्यापारियों के साथ धोखाधड़ी की है। इस संबंध में पत्रिका ने सरोज तिवारी से जानना चाहा मगर उनका मोबाइल स्वीचऑफ मिला।

Dinesh Bhardwaj Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned