लाजपोर जेल में कैदी ने फांसी लगाई

लाजपोर जेल में चोरी के केस में बंद एक विचाराधीन कैदी ने बैरक के बाथरूम में एक्जोस्ट फैन से रूमाल बांधकर फांसी लगा ली। पुलिस ने उसे झगडिय़ा...

By: मुकेश शर्मा

Published: 25 Apr 2018, 10:25 PM IST

सूरत।लाजपोर जेल में चोरी के केस में बंद एक विचाराधीन कैदी ने बैरक के बाथरूम में एक्जोस्ट फैन से रूमाल बांधकर फांसी लगा ली। पुलिस ने उसे झगडिय़ा तथा सूरत के विभिन्न क्षेत्रों में एटीएम से चोरी के मामले में गिरफ्तार किया था। जमानत नहीं मिलने के कारण डिप्रेशन में आत्महत्या की आशंका जताई गई है।

सचिन पुलिस तथा न्यू सिविल अस्पताल से मिली जानकारी के अनुसार वडोदरा मकरपुरा निवासी रामप्रकाश उर्फ रामप्रसाद रामसूरत बिंद (३०) लाजपोर जेल में विचाराधीन कैदी के रूप में बंद था। उसे जेल के यार्ड चार के बैरक ए/8 में रखा गया था। गुरुवार रात को उसने बैरक के अंदर कॉमन बाथरूम में एक्जोस्ट फैन से रूमाल बांधकर फांसी लगा ली। सुबह अन्य कैदी सोकर उठे तो घटना की जानकारी हुई। जेल प्रशासन ने सचिन पुलिस को सूचना दी। शव को पोस्टमार्टम के लिए न्यू सिविल अस्पताल लाया गया।

सचिन थाने के पीएसआई आर. एल. गोहिल ने बताया कि रामप्रकाश २१ अक्टूबर २०१७ से जेल में बंद था। भरुच के झगडिय़ा तथा सूरत के कतारगाम, सचिन जीआईडीसी, रांदेर क्षेत्र में एटीएम से चोरी करने में शामिल था। कोर्ट में केस पहुंचने के बाद उसे बीच में एक बार जमानत भी मिली थी। बाद में झगडिय़ा के केस में उसे जमानत नहीं मिली। उसने जेल ट्रांसफर करने के लिए भी आवेदन किया था।

सबजेल पर मनपा मुख्यालय के प्रस्ताव को हरी झंडी

सबजेल पर ही मनपा के प्रशासनिक भवन के प्रस्ताव को स्थाई समिति ने मंजूरी दे दी। बैठक में समिति ने गैमन को सुनने के लिए मनपा प्रशासन के प्रस्ताव को मुल्तवी रख दिया।मनपा प्रशासन ने राज्य सरकार से मिली रिंगरोड स्थित सबजेल की जगह पर मनपा मुख्यालय के लिए कंसलटेंट से प्रस्ताव मंगाए थे। १८ लोगों ने प्रस्ताव दिए थे, जिनमें १७ ने क्वालीफाई किया था। इस प्रोजेक्ट पर आगे बढऩे और इनमें से किसी एक को काम सौंपने के प्रस्ताव को मनपा प्रशासन ने स्थाई समिति को भेजा था। पूर्व में भी यह प्रस्ताव समिति के एजेंडे में शामिल किया गया था, लेकिन उस वक्त समिति ने अतिरिक्त अध्ययन के लिए लंबित रखा था।

शुक्रवार को हुई समिति की बैठक में समिति ने चर्चा के बाद प्रस्ताव को मंजूरी दे दी। इसके तहत महापौर अस्मिता शिरोया और आयुक्त एम थेन्नारसन के साथ ही उपमहापौर शंकर चेवली, स्थाई समिति अध्यक्ष राजेश देसाई, नेता शासक पक्ष गिरिजाशंकर मिश्र और मनपा के तीन अधिकारियों की उच्चाधिकार प्राप्त कमेटी कंसलटेंट के नाम पर अंतिम सहमति बनाएगी। १७ में से पहले पांच और फिर एक फर्म को स्क्रूटनाइज किया जाएगा। इसके अलावा मनपा प्रशासन ने केबल ब्रिज पर ब्लैकलिस्ट हुई गैमन इंडिया के पक्ष को सुनने का प्रस्ताव समिति को भेजा था। समिति ने गैमन को सुनने की किसी भी संभावना को खारिज करते हुए प्रस्ताव को रद्द कर दिया।

मुकेश शर्मा Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned