‘राहुल जहां जाते हैं वहां खत्म होती है कांग्रेस’

Mukesh Sharma

Publish: Oct, 12 2017 10:07:36 (IST)

Surat, Gujarat, India
‘राहुल जहां जाते हैं वहां खत्म होती है कांग्रेस’

भाजपा की गौरव यात्रा के दौरान मुख्यमंत्री विजय रुपाणी हिम्मतनगर व भाजपा प्रदेशाध्यक्ष जितु वाघाणी ने जामनगर में कांग्रेस के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राहुल

हिम्मतनगर/जामनगर।भाजपा की गौरव यात्रा के दौरान मुख्यमंत्री विजय रुपाणी हिम्मतनगर व भाजपा प्रदेशाध्यक्ष जितु वाघाणी ने जामनगर में कांग्रेस के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राहुल गांधी पर वाक्प्रहार करते हुए कहा कि राहुल जहां जाते हैं वहां कांग्रेस खत्म होती है। मुख्यमंत्री रुपाणी ने साबरकांठा जिले के हिम्मतनगर में टावर चौक के समीप बगीचे में सोमवार रात को सभा में कहा कि विकास भाजपा के लिए मिजाज है और मिजाज से हम विकास आगे बढ़ाना चाहते हैं। कांग्रेस के बारे में उन्होंने कहा कि राहुल के नेतृत्व में 22 चुनाव हारी है, मजाक बने हैं। राहुल जहां-जहां जाते हैं, वहां कांग्रेस पूरी हो जाती है।

रुपाणी ने कहा कि राहुल गुजरात के मंदिरों में भी जाते हैं, अच्छी बात है, लेकिन निष्ठा भी होनी चाहिए। गाय हमारे लिए माता है, केरल कांग्रेस ने खुले गाय की हत्या करके उसके मांस की खुले में मेजबानी की, अब यहां किस मुंह से आते हैं? उन्होंने राहुल गांधी पर वाक्प्रहार करके जवाब मांगा कि जवाहरलाल नेहरु युनिवर्सिटी में देश विरोधी नारेबाजी हुई तब वहां भाषण देने क्यों गए? गुजरातियों के लिए विकास रग-रग में है, विकास तेजी से हुआ है और कांग्रेस के मुख से जल निकल गया है।

कांग्रेस की दुकान बंद करवाएंगे राहुल

विधानसभाध्यक्ष रमणलाल वोरा ने ईडर के बडोली में सोमवार शाम को गौरव यात्रा में कहा कि कांग्रेसियों की नीति फूट डालो राज करो की रही है, कई लोग कांग्रेस के हाथ बनकर बाजार में निकले हैं, लेकिन चुनाव के बाद कहीं दिखाई ना देंगे। जामनगर में गौरव यात्रा में भाजपा प्रदेशाध्यक्ष जितु वाघाणी ने सोमवार रात को विरल बाग में सभा के दौरान राहुल की यात्रा पर कटाक्ष करते हुए कहा कि जहां-जहां राहुल गए हैं वहां-वहां कांग्रेस की दुकान बंद हुई है अर्थात् पराजित हुई है। गुजरात में टूट चुकी कांग्रेस को एकजुट करने के लिए राहुल गांधी आए हैं। यह राज्य संस्कारी है इसलिए राहुल का स्वागत करेंगे, लेकिन वोट नहीं देंगे। कांग्रेस का इतिहास गुजरात में खत्म हो जाएगा और राहुल की सभी यात्रा निष्फल रहेगी।

तीस्ता की याचिका पर राज्य सरकार को नोटिस

वर्ष 2002 के सांप्रदायिक दंगों के बाद तीन वर्ष बाद पंचमहाल जिले के लुणावाडा में नरकंकाल निकालने के मामले में सामाजिक कार्यकर्ता तीस्ता सेतलवाड़ ने गुजरात उच्च न्यायालय के समक्ष अपने खिलाफ दर्ज प्राथमिकी रद्द करने की गुहार लगाई है। उच्च न्यायालय ने इस याचिका पर राज्य सरकार को नोटिस जारी किया है। इस मामले की अगली सुनवाई 16 नवम्बर को होगी।

सुनवाई के दौरान तीस्ता की ओर से यह दलील दी गई कि इस मामले में आरोपपत्र पेश किया जा चुका है। इस मामले में उसके खिलाफ कोई मामला नहीं बनता है। दिसम्बर 2005 में पंचमहाल जिले के लुणावाडा में पानम नदी के किनारे कब्रिस्तान से नरंकंकाल को निकाला गया था। इस मामले में तीस्ता सहित अन्य के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई गई थी। तीस्ता पहले हाईकोर्ट से लेकर सुप्रीम कोर्ट जा चुकी है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि आरोपपत्र पेश किए जाने के बाद इस मामले में याचिका दायर की जा सकती है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned