महिला की गरीबी का उठाया फायदा!

पुलिस की प्राथमिक जांच में सामने आया कि यह महिला मूलरूप से दिल्ली की रहने वाली थी। वह दिल्ली से गंगापुरसिटी और फिर जयपुर पहुंची। जयपुर में वह...

By: मुकेश शर्मा

Published: 25 Apr 2018, 10:58 PM IST

अहमदाबाद/सूरत। पुलिस की प्राथमिक जांच में सामने आया कि यह महिला मूलरूप से दिल्ली की रहने वाली थी। वह दिल्ली से गंगापुरसिटी और फिर जयपुर पहुंची। जयपुर में वह एक युवक के संपर्क में आई। जो युवक सूरत में हर्ष के यहां ठेके पर मजदूरी करता था। यह युवक अविवाहित था। वह युवक ही इस महिला को उसकी बच्ची के साथ सूरत लेकर आया था।


यहां उसने पहले महिला को सूरत रेलवे स्टेशन क्षेत्र अनुपम हाइट्स की निर्माणाधीन साइट पर रखा। पांच दिन के बाद युवक उसे कामरेज के मानसरोवर फ्लैट पर लाया, यहां वह ई ब्लॉक में चौथी मंजिल पर ४०२ नंबर के मकान में उसके साथ रहता था। इस दौरान युवक इस महिला के साथ शारीरिक संबंध भी बनाता था। हर्ष की नजर पड़ी तो वह महिला का खर्च उठाने लगा और उससे संबंध बनाने लगा था। इस दौरान महिला ने हर्ष से शादी कर साथ रहने की बात कही तो उसने अपने साथियों के साथ मिलकर उसकी हत्या कर दी। महिला से आरोपी मजदूरी भी कराने लगा था। वह साइट पर रेती उठाने का काम करती थी। आरोपियों ने महिला की गरीबी का फायदा उठाया हो ऐसा प्रथमदृष्टया लगता होने की बात जे.के.भट्ट ने कही।

आंध्रप्रदेश के परिवार का दावा झूठा, खरीदी को लेकर जांच!

जे.के.भट्ट ने बताया कि आंध्रप्रदेश के एक परिवार की ओर से यह बच्ची उनकी होने का जो दावा किया गया था। उसमें सच्चाई नहीं है। वह झूठा है। जहां तक मां-बच्ची को मुकेश गुर्जर नाम के युवक के पास से ३५ हजार रुपए में खरीदकर लाने की बात है इसकी जांच की जा रही है। अब तक की जांच में ऐसा तथ्य सामने नहीं आया है।

बड़े भाई की गैर मौजूदगी में किया कांड

दुष्कर्म और दोहरे हत्याकांड के सूत्रधार हर्ष गुर्जर ने यह कांड अपने भाई हरिसिंह गुर्जर की गैर मौजूदगी में किया। भेस्तान की सोमेश्वर नगर सोसायटी में हर्ष के साथ रहने वाले उसके भाई हरिसिंह की पत्नी ने बताया कि उसका पति निर्दोष है। उसने कोई गलत कार्य नहीं किया है। हर्ष ने क्या किया इस बारे में उसे कोई जानकारी नहीं है, लेकिन उसका पति एक अप्रेल से नौ अप्रेल तक राजस्थान के सवाई माधोपुर जिले के कुरकुटा गांव स्थित अपने मूल निवास गया हुआ था। उसने बताया कि हरिसिंह और हर्ष के दो भाई और हैं जो गांव में ही रहते हैं।

आपराधिक रिकॉर्ड नहीं

पुलिस सूत्रों का कहना है कि हर्ष गुर्जर उर्फ हर सहाय का उसके गांव राजस्थान के सवाई माधोपुर जिले के कुरकुटा खुर्द गांव में कोई आपराधिक रिकॉर्ड तो नहीं मिला है, लेकिन उसकी छाप गांव में एक दबंग किस्म की है। डेढ़ साल पूर्व वह पत्नी रमा व दो बच्चों के साथ सूरत आया था और यहां टाइल्स फिटिंग की ठेकेदारी का काम शुरू किया था।

तीन से चार आरोपियों की लिप्तता का चला पता

जे.के.भट्ट ने बताया कि यह मामला केवल अकेले बच्ची की हत्या व उसके साथ दुष्कर्म का नहीं बल्कि उसकी मां की हत्या का भी है। ऐसे में यह दोहरी हत्या व बच्ची से सामूहिक दुष्कर्म का है। इसमें हर्ष के अलावा तीन से चार अन्य आरोपियों की लिप्तता भी सामने आई है। जांच के हित में नाम का खुलासा नहीं किया है। सूरत पुलिस जांच कर रही है। पुलिस ने हर्ष के भाई हरीसिंह गुर्जर, कार चालक रामनरेश के अलावा एक अमर नाम के व्यक्ति को भी हिरासत में लिया है।

मेहनत सूरत पुलिस की औरक्रेडिट अहमदाबाद क्राइम ब्रांच को

पांडेसरा में ग्यारह साल की बच्ची के साथ दरिंदगी और हत्या की गुत्थी सुलझाने के लिए मेहनत सूरत शहर पुलिस के ४०० जवानों ने की, लेकिन क्रेडिट अहमदाबाद पुलिस ने ले लिया। मृतका की शिनाख्त के लिए सूरत पुलिस ने १२ हजार से अधिक पैम्पलेट बंटवाए। ३०० से अधिक सीसीटीवी कैमरों के फुटेज जुटाए। ७ हजार से अधिक घरों में शिनाख्त के प्रयास किए। इस बीच कठुआ तथा उन्नाव दुष्कर्म मामलों के साथ इस मामले के भी राजनीतिक रंग लेने पर सरकार ने अहमदाबाद क्राइम ब्रांच को भी जांच में शामिल कर लिया। आरोपित का सुराग मिलने पर क्रेडिट लेने के होड़ में अहमदाबाद क्राइम ब्रांच ने आरोपित को अहमदाबाद लाकर मामले का खुलासा कर दिया। सूत्रों के मुताबिक सूरत पुलिस के आला अधिकारियों में इस बात को लेकर नाराजगी है।

मुकेश शर्मा Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned