उधार देने से मना किया तो कर दी थी हत्या


आरोपी को मिला आजीवन कारावास
दमण जिला एवं सत्र न्यायालय का फैसला

By: Sunil Mishra

Published: 10 Apr 2019, 06:39 PM IST


दमण. दमण जिला एवं सत्र न्यायालय में चल रहे हत्या के मामले में जिला एवं सत्र न्यायालय के न्यायाधीश एमआर देशपांडे ने आरोपी अनंत रावत को दोषी मानते हुए आजीवन कारावास की सजा सुनाई है।
किशोर लालजी भानुशाली ने नानी दमण थाने में 14 मई 2017 को एफआइआर नं.77/2017 दर्ज कराई थी कि उसका छोटा भाई हिम्मत लालजी भानुशाली (३०) निवासी चला, वापी, भीमपोर पांचाल उद्योग नगर के पास अर्जुनभाई की चाल में किराने की दुकान चलाता था। यहां पर रहने वाले अनंत रावत मूल निवासी बिहार हिम्मत भानुशाली की दुकान से उधार में सामान लेने आया, जिस पर पुराना हिसाब बाकी होने की वजह से हिम्मत ने अनंत रावत को उधार देने से मना कर दिया। इस पर दोनों के बीच कहासुनी हो गई और अनंत ने आवेश में आकर हिम्मत भानुशाली के सीने में चाकू मारकर हत्या कर दी। पीसीआर वैन द्वारा दुकानदार हिम्मत भानुशाली को मारवाड़ अस्पताल ले जाते समय उसकी मृत्यु हो गई। मृतक के भाई किशोर लालजी भानुशाली की शिकायत पर नानी दमण पुलिस ने धारा 302 के तहत हत्या का मामला दर्ज कर लिया था। जांच अधिकारी सब इंस्पेक्टर एम.एल.वाजा ने मामले में 16 अगस्त - 2017 को जिला एवं सत्र न्यायालय में आरोप पत्र पेश किया। करीब डेढ़ साल तक चली सुनवाई के बाद न्यायाधीश एम.आर. देशपांडे ने साक्ष्यों के आधार पर अनंत रावत को दोषी मानते हुए आजीवन कारावास के साथ 2 हजार रुपए के अर्थदण्ड की सजा सुनाई है।

Sunil Mishra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned