बिलखाड़ी ओवरफ्लो नहीं होने से लोगों को राहत


प्रशासन ने हटाए थे अतिक्रमण, चौड़ा भी किया
हर बार बारिश में होती थी परेशानी

By: सुनील मिश्रा

Published: 26 Jun 2018, 10:26 PM IST


वापी. भारी बरसात होने के बाद भी इस वर्ष बिलखाड़ी में पानी नहीं भरने से प्रशासन के साथ ही इस क्षेत्र के निवासियों ने भी राहत की सांस ली है। इससे पहले भारी बरसात होने पर बिलखाड़ी का पानी नोटिफाइड और छरवाड़ा क्षेत्र के आवासीय परिसरों में भर जाता था। इससे लोगों को काफी नुकसान और परेशानी उठानी पड़ती थी। इस बार समस्या नहीं होने के लिए बिलखाड़ी के आसपास के अतिक्रमण को दूर कर उसे चौड़ा करने के काम को कारण बताया जा रहा है।

गत वर्ष सैकड़ों घरों में पानी भर गया था
गत वर्ष वापी में भारी बरसात के कारण सैकड़ों घरों में पानी भर गया था और लाखों के माल सामान का नुकसान लोगों को उठाना पड़ा था। इस घटना से नाराज लोगों ने बिलखाड़ी के प्राकृतिक स्वरूप को बहाल करने और बिल्डरों द्वारा किए गए अतिक्रमण को दूर करने की मांग उठाई थी। विधायक कनु देसाई ने भी संकलन समिति की बैठक में कलक्टर सीआर खरसाण से इस मामले में सख्त कार्रवाई की मांग की थी।

कलक्टर ने अतिक्रमण हटवाया था
तत्कालीन प्रांत अधिकारी आरबी प्रजापति की अगुवाई में टीम गठित कर कलक्टर ने ग्राम पंचायतों, जीआईडीसी एवं नपा से अतिक्रमण समेत पूरी जानकारी एकत्र कर कई लोगों को नोटिस जारी किए थे। इसके बाद जिला प्रशासन ने प्रांत अधिकारी की देखरेख में कई सोसायटी, कंपनियों व अन्य संस्थाओं द्वारा जीआईडीसी लेकर कोलक नदी तक बिलखाड़ी की मार्जिन में किए गए अतिक्रमण को हटवाया। इसके साथ साथ बिलखाड़ी को चौड़ा भी किया गया था। रविवार रात से सोमवार दिन तक हुई भारी बरसात के कारण कई विस्तार के लोग पानी भरने की आशंका से सहमे थे। लेकिन खाड़ी के चौड़ा होने से पानी जमा नहीं हुआ। इससे प्रशासन के साथ लोगों ने भी राहत की सांस ली। कई कंपनियों में पानी भर जाता था, लेकिन इस बार यह समस्या नहीं हुई।

बच्चों से अश्लील हरकत करते पकड़ा
वलसाड. शहर के जमना बाई स्कूल के पास छोटे बच्चों को गलत इशारे करते एक युवक को लोगों ने जमकर पीटा और पुलिस को सौंप दिया। उक्त युवक चिखला की एक कंपनी में नौकरी करता है। जमनाबाई हाई स्कूल से छोटे बच्चों को ले जाने वाले एक वैन चालक ने एक युवक को बच्चों को अश्लील इशारे करते और मोबाइल क्लीपिंग दिखाते हुए पकड़ लिया। मौके पर पहुंचे लोगों ने उसे भी उसे पीटा और सिटी थाने में सौंप दिया। पूछताछ में युवक ने बताया कि वह चिखला में स्थित कम्पनी में काम करता है और बीमार होने पर यहां दवा लेने आया था। वह एक तरफ खड़ा था और रिक्शा चालकों ने पकड़ लिया तथा मारपीट शुरू कर दी। उसके जेब से कंपनी की डायरी और कुछ रुपए भी कहीं गिर पड़े। उसने खुद को निर्दोष बताया।

सुनील मिश्रा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned