कपड़ा व्यापारी की हिम्मत के सामने पस्त हुए लुटेरों के हौसले

- महंगा मोबाइल और सोने की चेन लूटने का किया प्रयास
- व्यापारी ने प्रतिरोध कर पुलिस व लोगों की मदद से पकड़वाया

By: Dinesh M Trivedi

Published: 15 Sep 2021, 10:25 AM IST

सूरत. कडोदरा में माजीसा राणी भटियाणी मंदिर के दर्शन के लिए पद यात्रा कर रहे एक व्यापारी व उनके मित्र को ऑटो रिक्शा में आए तीन जनों ने महंगा मोबाइल और सोने की माला लूटने का प्रयास किया, लेकिन व्यापारी ने हिम्मत दिखा कर उनका प्रतिरोध किया। विवाद के बीच पुलिस मौके पर पहुंच गई और तीनों को हिरासत में ले लिया।

जानकारी के अनुसार परवत पाटिया निवासी निर्मल माहेश्वरी सोमवार शाम को अपने मित्र के साथ कडोदरा स्थित माजीसा धाम के दर्शन के लिए पैदल निकले थे। वे देवध चेक पोस्ट से कुछ आगे नियोल गांव की तरह जा रहे थे। उसी समय एक ऑटो रिक्शा में सवार होकर तीन युवक उन्हें रोका और जबरन निर्मल का मोबाइल निकालने लगे। निर्मल ने उनका प्रतिरोध किया और मदद के लिए शोर मचाया।

उन्होंने निर्मल से मारपीट शुरू कर दी और मोबाइल और कीमती सामान नहीं देने पर जान से मारने की धमकी दी। उन्होंने किसी तरह से मोबाइल फोन निकाल लिया और निर्मल की सोने की रुद्राक्ष वाली माला भी तोड़ दी। निर्मल और उनके मित्र के शोर मचाने पर लोग एकत्र हो गए। करीब में स्थित पुलिस चौकी से पीसीआर वैन भी आ गई।

पुलिसकर्मियों और लोगों ने ऑटो रिक्शा में बैठ कर भागने का प्रयास कर आरोपियों पुणागाम कृष्णनगर निवासी राजू पंडया उर्फ चोटला, साईंनगर निवासी रिक्शा चालक अल्पेश सोलंकी व नेतल दे पार्क निवासी किशन मंडल को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने बताया कि आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है। इनमें से एक लिस्टेड बूटलेगर हैं। शेष दो के बारे में पूछताछ चल रही है।


मोबाइल छीनने का आरोप लगा कर लूटते हैं :

पीडि़त निर्मल ने बताया कि पदयात्रा के दौरान आरोपी उनका पीछा कर रहे थे। फिर उन्हें रोक कर उन पर किसी का मोबाइल छीनने का आरोप लगाया और उन्हें मोबाइल दिखाने के लिए कहा। उनके मित्र ने उनका सामान्य सा मोबाइल दिखा दिया। वे उनके इरादे भांप गए थे। उन्हें पता था कि यदि उन्होंने अपना महंगा फोन निकाला तो वे लूट लेंगे।

इसलिए उन्होंने मना कर दिया तो उन्होंने जबदस्ती शुरू कर मारपीट करने लगे। उन्होंने हिम्मत से प्रतिरोध किया, लेकिन उन्होंने माला तोड़ दी और मोबाइल भी निकाल लिया। मदद मिलने पर चेकपोस्ट के पास पकड़े गए।

Dinesh M Trivedi Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned