मुश्किल घड़ी में मिला सहारा, गार्ड ने कोरोना मरीज के लिए किया रक्तदान

- चिकित्सक ने कोरोना पॉजिटिव मरीज में हिमोग्लोबीन कम देखकर परिवार को रक्त लाने के लिए कहा था

By: Sanjeev Kumar Singh

Published: 24 Dec 2020, 10:58 PM IST

सूरत.

कोरोना संकट के दौरान फ्रंट फाइटर के तौर पर अलग-अलग जगह कार्यरत हेल्थ वर्कर और सुरक्षाकर्मी कोरोना मरीज की जान बचाने के लिए सब कुछ करने को तैयार दिखाई देते हैं। न्यू सिविल के कोविड-19 हॉस्पिटल के मेनगेट पर तैनात एक सिक्यूरिटी गार्ड ने बुधवार को एक कोरोना पॉजिटिव मरीज के लिए रक्तदान कर इस बात को साबित कर दिया।

न्यू सिविल अस्पताल परिसर में स्टेमसेल बिल्डिंग के कोविड-19 हॉस्पिटल के मेनगेट पर तैनात सुरक्षाकर्मी हुसैन युसुफ सालेह कोरोना संक्रमण के शुरुआत से ही नौकरी कर रहा है। कड़ोदरा निवासी किशन लुहार को कोरोना पॉजिटिव होने के बाद भर्ती कराया गया। उसके परिजन रक्त लेने के लिए सिविल के ब्लडबैंक और अलग-अलग ब्लडबैंक में पूछताछ कर रहे थे।

परिवार को चिंता में देखकर सिक्यूरिटी गार्ड हुसैन युसुफ सालेह ने उनको पूछा तो किशन के पिता लक्ष्मण लुहार ने उसे बताया कि बेटा भर्ती है और उसके रक्त की जरूरत है। तब हुसैन युसुफ सालेह ने कहा कि मेरा ब्लड चेक करवा लिजिए, मैच करेगा तो मैं डोनेट कर देता हूं। इसके बाद गार्ड ने अपना ब्लड चेक करवाया और रक्त मैच भी कर गया। इसके बाद सिक्यूरिटी गार्ड ने रक्तदान कर किसी परिवार की मुश्किल घड़ी में सहारा बन गया।

न्यू सिविल अस्पताल के चीफ सिक्यूरिटी ऑफिसर हरेन गांधी ने भी हुसैन युसुफ सालेह की तारीफ की। उन्होंने कहा कि कोरोना काल में फ्रंट फाइटर कर्मचारियों ने हजारों मरीजों की तकलीफ को नजदीक से देखा है। कोरोना संक्रमित की जान बचाने के लिए सिक्यूरिटी गार्ड के इस प्रयास कई लोग रक्तदान के लिए प्रेरित होंगे, जिसमें युवा पीढ़ी भी होगी।

Sanjeev Kumar Singh Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned