महिलाओं से कहा-बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ

महिलाओं से कहा-बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ

Sunil Mishra | Updated: 14 Jul 2019, 07:41:47 PM (IST) Surat, Surat, Gujarat, India

फ्लेयर राइटिंग इंडस्ट्रीज लिमिटेड कंपनी में कार्यक्रम आयोजित

दमण. बाल संरक्षण समिति के राज्य कार्यक्रम अधिकारी एवं नोडल अधिकारी संजीव कुमार पंड्या और उनकी टीम ने बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना के बारे में विभिन्न औद्योगिक इकाइयों में जाकर जानकारी दी। यहां कार्यरत 12 हजार से भी ज्यादा महिलाओं को सरकारी योजनाओं और उनके अधिकारों की रक्षा की जानकारी दी गई। कार्यक्रम फ्लेयर राइटिंग इंडस्ट्रीज लिमिटेड कंपनी में किया गया।

 

patrika

औद्योगिक इकाइयों में यौन उत्पीडऩ रोकथाम समिति का गठन अनिवार्य

कार्यक्रम अधिकारी बाल संरक्षण सेवाएं द्वारा बताया गया कि दमण के विभिन्न औद्योगिक इकाइयों में कार्यरत महिलाओं के हितार्थ यौन उत्पीडऩ के खिलाफ (रोकथाम,निषेध एवं निवारण) अधिनियम, 2013 के अनुसार औद्योगिक इकाइयों में यौन उत्पीडऩ रोकथाम समिति का गठन अनिवार्य है। इस संबंध में महिला एवं बाल विकास मंत्रालय द्वारा ऑनलाइन कंप्लेन मैनेजमेंट सिस्टम की शुरुआत की गई है। इसमें कार्यस्थल पर यौन उत्पीडऩ का सामना कर रही महिलाएं शिकायत कर सकती हैं। फैक्ट्रियों में महिलाओं को बेहतर सुविधाएं प्रदान करने के लिए फैक्ट्री अधिनियम 1948 की विविध धाराओं और नियमों का पालन अनिवार्य है। फैक्ट्रियों में जहां 50 या उससे ज्यादा कामदार कार्यरत हैं वहां पालनाघर का निर्माण अनिवार्य है। संघ प्रदेश दमण एवं दीव प्रशासन द्वारा महिलाओं के लिए महिला हेल्पलाइन 181 भी शुरू की गई है। इस पर महिलाएं हिंसा और उत्पीडऩ को लेकर शिकायत कर सकती हंै। आयुष्मान भारत के अंतर्गत महिलाओं को बीमा लाभ की सुविधा भी दी जा रही है। प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत मुद्रा लोन का लाभ दिया जा रहा है। संघ प्रदेश प्रशासन द्वारा महिला एवं बाल कल्याण मंत्रालय योजना के तहत बच्चों की सुरक्षा के लिए बाल हेल्पलाइन 1098 भी कार्यरत है।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned