RAPE : दो साल से स्कूल वैन चालक छात्रा का कर रहा था यौन शोषण


- वैन चालक की पत्नी को पता चलने पर छात्रा का अपहरण कर पीटा
- When it come to knowlage of driver's wife, the student is kidnapped and beaten

By: Dinesh M Trivedi

Published: 12 Nov 2020, 06:10 PM IST

सूरत. पूणागाम इलाके में पन्द्रह वर्षीय छात्रा को शादी का झांसा देकर स्कूल वैन का चालक पिछले दो वर्षो से उसका यौन शोषण कर रहा था। इस बारे में स्कूल वैन चालक की पत्नी को पता चलने पर उसने एक महिला के साथ मिल कर छात्रा का अपहरण किया और उसकी पिटाई कर दी। इस संबंध में पीडि़ता के भाई की शिकायत पर पूणागाम पुलिस ने मामला दर्ज कर आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।

पुलिस के मुताबिक, पूणागाम निवासी 32 वर्षीय वैन का चालक पिछले दो साल से पन्द्रह वर्षीय छात्रा का यौन शोषण कर रहा था। चालक अपनी स्कूल वैन में पीडि़त छात्रा को घर से स्कूल व स्कूल से घर छोड़ता था। इस दौरान उसने बहला फुसला कर पीडि़ता को शादी का झांसा दिया और प्रेम जाल में फंसाया। उसके बाद उसने तीन बार अलग-अलग स्थानों पर ले जाकर उसके साथ बलात्कार किया।

कोरोना के चलते स्कूल बंद होने के बाद भी वह फोन के जरिए पीडि़ता के संपर्क में रहता था। कुछ समय पूर्व वैन चालक की पत्नी को इस बारे में पता चल गया। उसकी पत्नी एक अन्य महिला साथ मंगलवार शाम पीडि़ता के घर पर पहुंची। उसने पीडि़ता को बाहर बुलाया और मारपीट कर जबरन एक कार में बिठा दिया। वहां से वे उसे कडोदरा रोड स्थित लैण्ड मार्क मार्केट के पास ले गई।

वहां पर उसे बुरी तरह से दुबारा अपने वैन चालक पति को फोन करने या उससे संपर्क रखने पर जान से मारने की धमकी दी। इसके बाद पीडि़ता को लैण्डमार्क मार्केट के पास छोड़ कर वहां से भाग गई। इस संबंध में पीडि़ता के भाई से शिकायत मिलने पर पूणागाम पुलिस में तीनों के खिलाफ मामला दर्ज किया। पुलिस ने बुधवार को वैन चालक, उसकी पत्नी व उसकी सहेली को गिरफ्तार कर लिया।


शातिर है वैन चालक :
पुलिस ने बताया कि वैन चालक राजस्थान के जयपुर शहर का निवासी है तथा शातिर है। उसके खिलाफ 2016 में भी पूणागाम इलाके में इसी तरह एक छात्रा को बहला फुसला कर उसका अपहरण करने और बलात्कार करने का मामला दर्ज हो चुका है।

Dinesh M Trivedi Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned