बाजार में पसरा सन्नाटा, सरकारी कार्यालयों से भीड़ नदारद

सिलवासा के शहरी क्षेत्रों के बाजार, चौक-चौराहे, पार्क, सडक़ें, दुकानों पर सन्नाटा पसर गया है। सरकारी कार्यालय, जिला पंचायत, सिलवासा नगर परिषद के कार्यालयों में भी लोग अब जरूरी काम से ही पहुंच रहे

By: Dinesh Bhardwaj

Updated: 19 Mar 2020, 07:44 PM IST

सिलवासा. देशभर में फैले कोरोना वायरस संक्रमण के प्रति लोगों में सतर्कता का असर संघ प्रदेश दादरा एवं नगर हवेली में देखने को मिल रहा है। सिलवासा के शहरी क्षेत्रों के बाजार, चौक-चौराहे, पार्क, सडक़ें, दुकानों पर सन्नाटा पसर गया है। सरकारी कार्यालय, जिला पंचायत, सिलवासा नगर परिषद के कार्यालयों में भी लोग अब जरूरी काम से ही पहुंच रहे है, नतीजन वहां भी भीड़ गायब हो गई है।
कोरोना वायरस का खौफ पूरे देश में फैला है, वहीं दानह में भी लोग इसके प्रति सतर्क हो गए है। फिलहाल क्षेत्र में कोरोना विषाणु संक्रमित कोई मरीज नहीं है, फिर भी लोग हर तरीके से जागरूक हो रहे है। शहर के शिक्षण संस्थान, आंगनवाड़ी, समारोह व सार्वजिनक संस्थाओं के बंद रहने से जनजीवन पर असर पड़ा है। कोरोना वायरस से सुरक्षा व भीड़भाड़ को रोकने के लिए प्रशासन ने सभी शिक्षण संस्थान, हाट बाजार, मॉल-शॉपिंग सेंटर आदि 31 मार्च तक बंद कर दिए है। कॉलेज, टीचिंग सेंटर, ट्यूशन क्लासेस, एमएमसी व जिला पंचायत के अधीन संचालित प्राथमिक व उच्च प्राथमिक स्कूलों में 31 मार्च तक अवकाश घोषित होने से सर्वत्र सन्नाटा पसरा है। लोग जरूरी काम से ही घरों से निकल रहे हैं। उधर, अस्पतालों में सर्दी, खांसी, जुकाम व बुखार के मरीजों के लिए अलग से ओपीडी बनाने की बात चल रही है। स्वास्थ्य विभाग ने डॉक्टरों व नर्स स्टाफ की छुट्टियां रद्द कर दी हैं।


यहां आई लोगों की कमी


कोरोना वायरस से वित्तीय व आर्थिक गतिविधियों पर बुरा असर पड़ा है। उद्योगपति, व्यापारी, ट्रांसपोर्ट्र्स, कारोबारी आदि सभी कोरोना वायरस को ध्यान में रख सतर्क हो गए है। पर्यटन स्थलों पर होली के बाद होने वाली भीड़ नहीं है। पड़ौसी राज्य गुजरात व महाराष्ट्र से बहुत कम सैलानी आ रहे हैं। नक्षत्र गार्डन, दादरा गार्डन, दुधनी जेटी, मधुबन डेम, खानवेल विस्तार के सभी पर्यटन स्थल खाली-खाली नजर आ रहे हैं। वन विभाग ने दपाड़ा सतमालिया व वासोणा लॉयन सफारी बंद कर दिए हैं।


मंदिरों में दर्शनार्थियों की कमी


कोराना वायरस संक्रमण के प्रति सतर्कता धार्मिक स्थलों में भी बरती जाने लगी है। ईसाई समुदाय ने चर्च में प्रार्थना सभा बंद कर दी हैं। क्षेत्र के बड़े मंदिरों में श्रद्धालुओं की संख्या में कमी आई है। बिन्द्राबीन व लवाछा मंदिर में भी श्रद्धालु बहुत कम आ रहे हैं। यहां आने वाले श्रद्धालु मास्क लगाए नजर आए। बहरहाल, प्रशासन की ओर से धार्मिक स्थल व मंदिरों पर प्रतिबंध नहीं है।

Corona virus
Dinesh Bhardwaj Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned