मेगा डिमोलिशन : लंबे विवाद के बाद मनपा ने ढहाई बकरा मंडी

मेगा डिमोलिशन : लंबे विवाद के बाद मनपा ने ढहाई बकरा मंडी

Vineet Sharma | Publish: Aug, 12 2018 08:32:33 PM (IST) Surat, Gujarat, India

मनपा के रिजर्वेशन प्लॉट और सोसायटी के कॉमन प्लाट पर अवैध रूप से हो रहा था संचालन

सूरत. लंबे विवाद के बाद मनपा प्रशासन ने आखिरकार बकरा मंडी पर रविवार को बुलडोजर चला दिया। मनपा की लिंबायत जोन टीम ने मौके पर पहुंच बकरों की खरीद-फरोख्त रोक दी और वहां लगे पतरे-एंगल हटाने शुरू कर दिए। प्लॉट को खाली कराने के लिए मनपा टीम सोमवार को भी अभियान चलाएगी।

लिंबायत जोन की टीपी 33 (डुंभाल) में मनपा का रिजर्वेशन प्लॉट और उससे लगा ओमनगर सोसायटी का कॉमन प्लॉट है। करीब 30 हजार वर्ग मीटर की इस खुली जगह पर ईद के त्योहार के मद्देनजर एक अगस्त से बकरा मंडी लगाई जा रही थी। यहां पतरे और एंगल लगाकर अस्थाई ढांचा खड़ा किया गया था। रोजाना बड़ी संख्या में बकरों की खरीद-फरोख्त होती थी। लोग सुबह से बकरों को खरीदने-बेचने के लिए मंडी में जमा हो जाते थे।

बकरा मंडी पूरी तरह अवैध रूप से संचालित हो रही थी। इसके लिए मनपा प्रशासन से किसी तरह की अनुमति नहीं ली गई थी। आरोप है कि मनपा प्रशासन की जानकारी के बावजूद अधिकारी इसे हटाने को लेकर गंभीर नहीं थे। लोगों के विरोध के बावजूद अधिकारी इसे हटाने की जहमत नहीं कर रहे थे।

पिछले कुछ दिनों से लोगों के विरोध को राजनीतिक संरक्षण मिलना शुरू हुआ तो मामला विवाद में आ गया। स्थानीय विधायक, पार्षद, महापौर, स्थाई समिति अध्यक्ष समेत जब शहर भाजपा अध्यक्ष तक इसे लेकर सजग हुए तो अधिकारियों में हड़कंप मचा। मामला बिगड़ता देख मनपा प्रशासन सक्रिय हुआ और लिंबायत जोन टीम हरकत में आ गई।

कार्यपालक अभियंता भैरव देसाई के नेतृत्व में मनपा का दस्ता रविवार सुबह करीब साढ़े नौ बजे मौके पर पहुंच गया। इस वक्त तक मंडी सजने लगी थी और करीब चार हजार बकरे बिकने के लिए मौजूद थे। मनपा टीम ने वहां मौजूद लोगों को बाहर करते हुए प्लॉट पर लगाए पतरे और एंगल उखाडऩे शुरू कर दिए। यह कार्रवाई रात करीब आठ बजे तक चली। अधिकारियों के मुताबिक प्लॉट से पतरे हटाने और एंगल काटने का काम सोमवार को भी जारी रहेगा।

पुलिस भी मौजूद रही

कार्रवाई से पहले मनपा प्रशासन ने पुलिस सुरक्षा मांग ली थी। जब टीम मौके पर पहुंची तो उनके साथ स्थानीय पुलिस की टुकड़ी के साथ स्टेट रिजर्व फोर्स की टुकड़ी भी कार्रवाई स्थल पर मौजूद थी। सुबह मामूली नोक-झोंक के बाद पुलिस सुरक्षा में मनपा दस्ते ने पतरे के शेड निकालने शुरू कर दिए। मनपा की कार्रवाई शुरू होते ही लोगों में हड़कंप मच गया। उनके समक्ष बकरों को ले जाने और उन्हें रखने का संकट खड़ा हो गया। बाद में मनपा प्रशासन ने बकरों को अस्थाई रूप से आंजणा फ्लाइओवर के नीचे रखने की इजाजत दी। लोगों ने अपने बकरे पुल के नीचे पहुंचाए। लोगों के मुताबिक 22 अगस्त के आसपास ईदपर्व आएगा। उससे एक हफ्ता पहले तक ही बकरों की खरीद-फरोख्त होती है। ऐसे में महज चार-पांच दिन का बाजार और बचा था।

पांच साल से लग रही थी मंडी

आयोजकों के मुताबिक करीब पांच साल से ईद के दौरान बकरा मंडी इसी जगह लगती रही है। इस बार भी जब पतरे के शेड लगाए जा रहे थे, मनपा प्रशासन ने ऐतराज नहीं किया। बीते दिनों जब लोगों के विरोध के कारण मामला गरमाया तो शनिवार को मनपा के लिंबायत जोन अधिकारियों ने बकरा मंडी हटाने का नोटिस दिया।

नहीं थी परमिशन

बकरा मंडी लगाने के लिए मनपा के लिंबायत जोन प्रशासन से अनुमति नहीं ली गई थी। आयोजकों ने स्वास्थ्य विभाग और दमकल से अनुमति का दावा किया था, जो जांच में गलत निकला। इसके बाद नोटिस देकर कार्रवाई की गई।
भैरव देसाई, कार्यपालक अभियंता, लिंबायत जोन

नहीं किया ऐतराज

ईद के त्योहार को देखते हुए 1 अगस्त से बकरा मंडी संचालित हो रही थी। जब पतरे के शेड और एंगल लगाए जा रहे थे, किसी अधिकारी ने ऐतराज नहीं जताया। हमने अनुमति मांगी थी, जिसे शनिवार को निरस्त कर रविवार को अचानक कार्रवाई शुरू कर दी गई।
अकरम अंसारी, आयोजक, बकरा मंडी

Ad Block is Banned